Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ विश्व की कलीसिया

कार्डिनल, प्रेरितिक राजदूत और धर्माध्यक्षों पर अर्धसैनिकों द्वारा हमला

- AP

12/07/2018 17:14

निकारागुवा, बृहस्पतिवार, 12 जुलाई 18 (रेई)˸ निकारागुवा की काथलिक कलीसिया ने स्थानीय कलीसिया के तीन प्रमुख सदस्यों पर सरकारी समर्थक अर्धसैनिकों द्वारा हमले की कड़ी निंदा की है।

निकारागुआ में, कार्डिनल लियोपोल्डो ब्रेनेस, मैनागुआ के महाधर्माध्यक्ष वाल्देमर स्टैनिस्लो सोम्मेर्टैग, मध्य अमेरिकी राष्ट्र के लिए प्रेरितिक राजदूत और मानागुआ के सहायक धर्माध्यक्ष  जोस सिल्वियो बेज पर सरकार के अर्धसैनिकों द्वारा सोमवार को हमला किया गया था।

यह हमला उस समय हुआ जब तीन धर्माध्यक्ष, पुरोहित और पत्रकारों का एक प्रतिनिधिमंडल निकारागुआ राजधानी के दक्षिण में डिरिम्बा में संत सेबेस्टियन महागिरजाघर के बाहर पहुंचे, ताकि घिरे गिरजाघर के अंदर फंस गए सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों की मदद कर सके।

धर्माध्यक्ष घायल

मिली जानकारी के अनुसार हमला के दौरान धर्माध्यक्ष सिल्वियो जोस बेज के पेट में मुक्का मारा गया, उसकी बांह को चोट लगी और उनके क्रूस को भी छीन लिया गया। धर्माध्यक्षों के साथ जा रहे फादर के मोबाईल को भी छीन लिया गया, साथ ही, उनके साथ पत्रकारों पर भी आक्रमण किया गया एवं उनके समानों को फेंकने का प्रयास किय गया। उसके बाद निकारागुआ के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने एक संदेश प्रकाशित कर हिंसा की निंदा की और दोहराया कि धर्माध्यक्ष राष्ट्र में पीड़ित लोगों के पक्ष में खड़े थे।

पहले कोई चुनाव नहीं

निकारागुआ में अप्रैल के मध्य में सरकार द्वारा सामाजिक सुरक्षा में कटौती की घोषणा के बाद तनाव बढ़ रहा है। परिवर्तनों को जल्दी से उलट दिया गया था लेकिन दैनिक सड़क विरोधों ने राष्ट्रपति डैनियल ओरटेगा को पदत्याग करने हेतु मजबूर किया। हिंसा में 250 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं।

शनिवार को, राष्ट्रपति ओर्टेगा ने घोषणा की कि वह 2021 के लिए निर्धारित चुनावों को आगे नहीं बढ़ाएंगे। चुनाव की तारीख को आगे लाना, निकारागुआ के काथलिक धर्माध्यक्षों द्वारा सरकार और विपक्ष के बीच मध्यस्थों के रूप में उनकी भूमिका में किए गए अनुरोधों में से एक रहा था।


(Usha Tirkey)

12/07/2018 17:14