Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

विश्व की घटनायें \ विश्व

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख द्वारा बांग्लादेश में रोहिंग्या शिविरों का दौरा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो ग्युटेरेस के स्वागत में बांग्लादेश के शरणार्थी - REUTERS

04/07/2018 15:34

कुतुपालोंग,बुधवार 4 जुलाई 2018 (उकान) : संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो ग्युटेरेस ने बांग्लादेश के शरणार्थी शिविरों की यात्रा के दौरान अत्याचारों के "अकल्पनीय" घटनाओं को सुना और रोहिंग्यों के खिलाफ "अपराध" के लिए म्यांमार को जिम्मेदार ठहराया।

गुटेरेस ने सताए गए अल्पसंख्यक मुस्लिमों की स्थिति को "मानवतावादी और मानवाधिकारों के दुःस्वप्न" के रूप में वर्णित किया। पिछले साल म्यांमार सेना के हिंसा अभियान से बचने वाले लोगों के अस्थायी आश्रयों के दौरे से पहले संयुक्त राष्ट्र ने जातीय सफाई की तुलना की थी।

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने 2 जुलाई को भीड़ वाले शिविरों में रहने वाले शरणार्थियों से बलात्कार और हिंसा की गवाही सुनी, जहां लगभग दस लाख लोग - ज्यादातर रोहिंग्यों ने म्यांमार में हिंसा की लगातार वारदातों की वजह से शरण मांगी है।

"यह शायद मानव अधिकारों के सबसे दुखद, ऐतिहासिक और  व्यवस्थित उल्लंघनों में से एक है," गुटेरेस ने दुनिया के सबसे बड़े शरणार्थी शिविर कुतुपालोंग में संवाददाताओं से कहा।

"कभी-कभी लोग भूल जाते हैं कि जो हुआ उसके लिए कौन जिम्मेदार है। तो आइए स्पष्ट करें कि जिम्मेदारी कहां है - यह म्यांमार में है। "लेकिन यह सच है कि पूरा अंतर्राष्ट्रीय समुदाय इसे रोकने में सक्षम नहीं था।"

बांग्लादेश में रोहिंग्या के करीब 700,000 लोग हिंसा से बचने के लिए पिछले अगस्त में सीमा पार भाग गए थे।

उन्हें म्यांमार में कई लोगों द्वारा परेशानियों का सामना करना पड़ता है। राखीन राज्य को अपनी मातृभूमि कहे जाने के बावजूद उन्हें बांग्लादेश से आये अवैध आप्रवासियों का नाम देकर हटा दिया गया था।

विश्व बैंक के प्रमुख श्री जिम योंग किम के साथ संयुक्त राष्ट्र प्रमुख गुटेरेस ने रोहिंग्या शिविरों की पहली यात्रा की। उन्होंने "हत्या और बलात्कार के अकल्पनीय आपबीती घटनाओं" को सुना।

गुटेरेस ने ट्विटर पर लिखा, "संकट के पैमाने और आज मैंने जो पीड़ा देखी है, उसके लिए मैं तैयार नहीं था।"

"मैंने रोहिंग्या शरणार्थियों से उनकी दिल को दहलाने वाली आपबीती घटनाओं को सुना जो हमेशा मेरे साथ रहेंगे।"

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रतिनिधिमंडल ने मई के आरंभ में म्यांमार और राखीन राज्य का दौरा किया, शरणार्थियों से मुलाकात की जिन्होंने म्यांमार की सेना के हाथों मारने वाले हत्याओं, बलात्कार और गांवों का विस्तृत विवरण दिया।

म्यांमार ने संयुक्त राज्य अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र द्वारा जातीय सफाई के आरोपों का जोरदार खंडन किया है।

बांग्लादेश और म्यांमार रोहिंग्या को वापस लेने के लिए नवंबर में सहमत हुए लेकिन प्रक्रिया बंद हो गई।


(Margaret Sumita Minj)

04/07/2018 15:34