Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ विश्व की कलीसिया

डीआर कोंगो के धर्माध्यक्षों द्वारा 770,000 बच्चों की सहायता हेतु अपील

लोकतांत्रिक गणराज्य कांगो के काथालिक धर्माध्यक्ष - RV

30/06/2018 15:07

कसाई, शनिवार 30 जून 2018 (वाटिकन न्यूज) : लोकतांत्रिक गणराज्य कांगो के काथालिक धर्माध्यक्षों ने ग्रैंड कसाई क्षेत्र के पांच वर्ष से कम उम्र के 770,000 से ज्यादा बच्चों को बचाने की अपील की जो भुखमरी और गंभीर कुपोषण के शिकार हैं।

केंद्रीय क्षेत्र के काथलिक धर्माध्यक्षों ने मानवतावादी आपदा को रोकने के लिए तत्काल सहायता के लिए अपील की। जहां गुरिल्ला से जुड़ी हिंसा ने लगभग 1.5 मिलियन लोगों को अपने घरों से भागने को मजबूर कर दिया है।

ग्रैंड कसाई क्षेत्र के काथलिक धर्माध्यक्षों का कहना था कि गुरिल्ला से जुड़ी असुरक्षा और हिंसा के कारण परंपरागत रूप से कुपोषण दर आस्मान को छू रही है और सबसे कमजोर लोग ही इसकी उच्चतम कीमत चुका रहे हैं।

वे कहते हैं कि सबसे खराब प्रभावित क्षेत्र कनांगा महाधर्मप्रांत और लुइज़ा, लुएबो धर्मप्रांत तथा म्वेका का एक हिस्सा हैं। इन धर्मप्रांतों में अपने प्रेरितिक दौरे में वहाँ के स्थानीय धर्माध्यक्षों ने व्यक्तिगत रूप से मानवीय आपदा और गंभीर कुपोषण की स्थिति को देखा।

तत्काल अपील

उन्होंने कहा कि कसाई प्रांत की राजधानी कनंगा में, विभिन्न पल्लियों के कुपोषित बच्चों का स्वागत कर रहे हैं। महाधर्माध्यक्ष, मार्सेल माडिला ने तुरंत आवश्यक मदद की मांग की है विशेषकर कठिन अवधि, शुष्क मौसम शुरू होने वाला है"।

उन्होंने कहा, "अगर बच्चों की सहायता नहीं की जाती है, तो हजारों बच्चे के मौत होने का खतरा है"।

कारितास कांगो कानंगा के 8 धर्मप्रांतीय कारितास कार्यालयों के साथ मिलकर इस संकट से उबरने के लिए काम कर रही है, कारितास कार्यालयों का कहना है कि जिसका प्रभाव ईबोला महामारी से भी बदतर होने की उम्मीद है।

राजनीतिक तनाव और खनिज के प्रति दिलचस्पी

डीआरसी में जटिल मानवतावादी आपात दशकों से सरकार तथा विभिन्न विद्रोहियों के बीच संघर्ष और राजनीतिक तनाव से जुड़ा हुआ है।   2016 में राष्ट्रपति कबीला की अवधि समाप्त होने के दो साल बाद भी देश के चुनावी आयोग राष्ट्रपति चुनाव आयोजित करने में नाकाम रहे हैं।

केंद्रीय ग्रांड कसाई क्षेत्र एक विशाल क्षेत्र है जिसे पांच प्रांतों में बांटा गया है, जो हीरे का धनी है, लेकिन प्रतिस्पर्धी खनिज हितों पर क्षेत्रीय और राजनीतिक तनाव से पीड़ित है।


(Margaret Sumita Minj)

30/06/2018 15:07