Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

वाटिकन \ घटनायें

संत पापा ने ऑर्थोडोक्स कलीसिया के प्रतिनिधियों का स्वागत किया

ऑर्थोडोक्स प्राधिधर्माध्यक्ष के प्रतिनिधियों के साथ संत पापा - AP

28/06/2018 14:13

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 28 जून 18 (रेई)˸ कलीसिया के महाप्रेरित संत पेत्रुस एवं संत पौलुस के महापर्व के पूर्व दिन मैं आप सभी से मुलाकात कर अत्यन्त खुश हूँ जो कुस्तुनतुनिया के ग्रीक ऑर्थोडोक्स प्राधिधर्माध्यक्ष के प्रतिनिधि के रूप में रोम पधारे हैं। मैं आप सभी का हार्दिक स्वागत करता हूँ। रोम की कलीसिया के संरक्षकों के सम्मान में उत्सव पर आपकी उपस्थिति काथलिक कलीसिया एवं पूर्वी कलीसिया के बीच एकता में वृद्धि का चिन्ह है। ये बातें संत पापा फ्राँसिस ने बृहस्पतिवार को ग्रीक ऑर्थोडोक्स प्राधिधर्माध्यक्ष के प्रतिनिधियों का स्वागत करते हुए कही।

उन्होंने कहा, "प्रेरितों, उनकी शिक्षा और उनके लेखों की याद करना हमें हमारी बहन कलीसियाओं के मूल की याद दिलाती है और साथ ही, सुसमाचार की सेवा में हमारी आम प्रेरिताई का स्मरण दिलाती है ताकि हम एक नवीन मानवता को ला सकें जो ईश्वर के अधिक करीब हो।"

संत पापा ने कहा कि कई परंपरागत ख्रीस्तीय समाजों में, प्रभु येसु ख्रीस्त के प्रति निष्ठा के प्रत्यक्ष उदाहरणों के साथ-साथ, हम विश्वास की रोशनी की कमी को देखते हैं, जो व्यक्तियों और सार्वजनिक नीतियों के विकल्पों को प्रेरित नहीं करते। मानव व्यक्ति की प्रतिष्ठा का अपमान, धन की पूजा, हिंसा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी का एक समग्र दृष्टिकोण, प्राकृतिक संसाधनों का दोहन, ये केवल एक दुःखद वास्तविकता के गंभीर संकेतों में से कुछ हैं जिनके लिए हमें खुद को इस्तीफा नहीं देना चाहिए।

संत पापा ने प्राधिधर्माध्यक्ष बरथोलोमियों की उन बातों पर सहमति व्यक्त की जिनको उन्होंने "डिजिटल युग में नयी नीतियां एवं जीवन शैली" पर रोम में एक सम्मेलन में कही थी। उन्होंने कहा था कि हम रूखे वाक्यांश को अस्वीकार करते हैं जिसका 'कोई विकल्प नहीं है'... यह विकास के वैकल्पिक रूपों और सामाजिक एकजुटता और न्याय की ताकत को अनदेखा और निंदा करने के लिए अस्वीकार्य है।

संत पापा ने कहा कि हमारी कलीसियाएँ नयी संभवनाओं को उत्पन्न कर सकती हैं ताकि दुनिया को बदला जा सके। वास्तव में, कलीसिया ही अपने आप में प्रेम और खुलापन को बांटने हेतु बदलाव का एक अवसर है। हमारी कलीसियाओं में हम उन निश्चितताओं का एहसास करते हैं जो भविष्य में पाने का नहीं किन्तु खुद बन जाने का, स्वार्थ का नहीं किन्तु एकता का, विभाजन का नहीं किन्तु प्रेम की आशा प्रदान करता है।  

उन्होंने कहा कि मुझे यह महसूस करना सुखद है कि मेरे प्रिय भाई बार्थोलोम्यो के साथ विचारों का अभिसरण एक ठोस आम प्रयास में अनुवादित किया जा रहा है। संत पापा ने आधुनिक युग की दासता, सृष्टि की देखभाल एवं शांति की रक्षा में दोनों कलीसियाओं के संयुक्त पहल पर ऑर्थोडोक्स प्राधिधर्माध्यक्ष के प्रति कृतज्ञता व्यक्त की। उन्होंने 7 जुलाई को बरी में मुलाकात हेतु निमंत्रण को सहर्ष स्वीकार करने के लिए उन्हें धन्यवाद दिया तथा आशा व्यक्त की कि वहाँ काथलिकों एवं ऑर्थोडॉक्स ख्रीस्तीयों के लिए एक साथ काम करने, प्रार्थना करने और येसु ख्रीस्त के सुसमाचार प्रचार हेतु अधिक अवसर प्राप्त होगा जिससे कि वे एकता की यात्रा में ईश्वर की कृपा से लगातार आगे बढ़ सकेंगे।

संत पापा ने सभी प्रतिनिधियों को उनकी उपस्थिति के लिए धन्यवाद दिया एवं संत पेत्रुस एवं पौलुस तथा संत अंद्रेयस की मध्यस्थता द्वारा प्रार्थना की कि वे सुसमाचार के सच्चे संदेश वाहक बन सकें।


(Usha Tirkey)

28/06/2018 14:13