Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

वाटिकन \ घटनायें

संत पापा ने किया कार्डिनलों के मंडल में परिवर्तन

कार्डिनलों से मिलते हुए संत पापा फ्राँसिस - REUTERS

27/06/2018 15:24

वाटिकन सिटी, बुधवार 27 जून 2018 (वाटिकन न्यूज) :  संत पापा फ्राँसिस ने कार्डिनलों के मंडल में चार कार्डिनलों को "धर्माध्यक्षों की श्रेणी" में स्थानांतरित कर दिया है।

 26 जून 2018 के एक व्यवस्थापत्र के अनुसार, संत पापा फ्राँसिस ने कार्डिनलों के मंडल में चार कार्डिनलों को धर्माध्यक्षों की श्रेणी" लाया है। राज्य सचिवालय विकल्प, नव-नियुक्त  कार्डिनल एंजेलो बेच्चु द्वारा हस्ताक्षरित प्रतिलेख का कहना है कि नए कार्डिनल धर्माध्यक्ष "उपनगरीय कलीसिया के शीर्षक वाले धर्माध्यक्षों के सभी मामलों में" बराबर होंगे।

परंपरागत रूप से, कार्डिनल मंडल के भीतर धर्माध्यक्षों के संध में छह धर्माध्यक्ष रहते हैं जिन्हें उपनगरीय क्षेत्रों के धर्माध्यक्षों का "पद" दिया जाता है - यानी वे रोम के पड़ोसी धर्मप्रांत होते हैं।

 नए कार्डिनल धर्माध्यक्षों के नाम इस प्रकार हैः

 राज्य सचिव पियेत्रो पेरोलिन, ओरिएंटल कलीसियाओं के धर्मसंध का प्रीफेक्ट लेयोनार्डो सांड्री, धर्माध्यक्षों के धर्मसंध के प्रीफेक्ट कार्डिनल मार्क ओउलेट और लोकधर्मियों के धर्मसंध के प्रीफेक्ट फेर्नांडो फिलोनी। 28 जून को व्यवस्थापत्र लागू होते ही, नए कार्डिनल धर्माध्यक्ष अपने उपनगरीय धर्मप्रांतों के धर्माध्यक्षों से सभी मामलों में समकक्ष होंगे।

व्यवस्थापत्र में कहा गया है, "रोम के परमधर्माध्यक्ष हमेशा कार्डिनलों के मंडल को अपने भाइयों के रुप में देखा है। वास्तव में, वे संत पेत्रुस के उत्तराधिकारी के मिशन को आगे बढ़ाने में विशेष समर्थन प्रदान करते हैं, जो दुनिया भर में फैले विशेष कलीसियाओं के लिए उनके अनुभव और सेवा का बहुमूल्य योगदान देते हैं और रोम की कलीसिया के साथ सामंजस्य के बंधन को प्रभावी ढंग से समृद्ध करते हैं।"

संत पापा की विशेष अनुमति पर ही, रोमन कलीसिया के सभी कार्डिनलों को धर्माध्यक्षीय अभिषेक प्राप्त होता है। हालांकि, कार्डिनलों के मंडल में तीन "ऑर्डर" या श्रेणियां हैं: कार्डिनल धर्माध्यक्ष, कार्डिनल याजक और कार्डिनल डीकन। यह ऑर्डर रोम की कलीसिया के भीतर कार्डिनलों के अधिकार लेने की ऐतिहासिक घटना है।

व्यवस्थापत्र नोट करता है कि यद्यपि याजक और डीकन के ऑर्डर से संबंधित कार्डिनल की संख्या मंडल के विकास के साथ बढ़ी है, कार्डिनल धर्माध्यक्षों की संख्या "समय के साथ निरंतर और अपरिवर्तित बनी हुई है।"  नए कार्डिनल को धर्माध्यक्ष के ऑर्डर में लाने का उद्देश्य "ऑर्डर की वर्तमान संरचना को बढ़ाने की आवश्यकता" को पूरा करना है।


(Margaret Sumita Minj)

27/06/2018 15:24