Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

वाटिकन \ घटनायें

संत पापा फ्राँसिस और फ्राँस के राष्ट्रपति मैक्रॉन की मुलाकात

फ्राँस के राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रॉन - REUTERS

23/06/2018 16:00

वाटिकन सिटी, शनिवार 23 जून 2018 (रेई) : वाटिकन प्रेस कार्यालय द्वारा जारी सूचना अनुसार संत पापा फ्राँसिस मंगलवार 26 जून को 10 बजे वाटिकन के प्रेरितिक भवन में फ्राँस के राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रॉन माक्रोन के साथ मुलाकात करेंगे।

संत पापा से मुलाकात करने के बाद राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रॉन, रोम के संत जोवान्नी लातेरन महागिरजाघर जाएंगे जहाँ 2.30 बजे उन्हें ‘लातेरन चापटर के प्रोटोकानोनिको’ के सम्मान से विभुषित किया जाएगा।  

संत जोवान्नी लातेरन में समारोह

राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रॉन के संत जोवान्नी लातेरन पहुँचने पर उनका स्वागत विकर महाधर्माध्यक्ष एंजेलो डी डोनाटिस करेंगे। महाधर्माध्यक्ष एंजेलो के स्वागत भाषण के साथ समारोह शुरू होगा। एक प्रार्थना और बाइबिल से एक पाठ पढ़ा जाएगा।

इसके बाद सभी कोलोना चैपल में जाएंगे - जहां मैक्रोन कैननिकल "स्टॉल" के दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करेंगे। इस अवसर पर रोम धर्मप्रांत के धर्मप्रांतीय कारितास के अध्यक्ष मोन्सिन्योर एनरिको फेरोसी  लातेरन क्रॉस की एक प्रति राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रॉन को उपहार देंगे। फिर वे संत जोवान्नी बसेलिका के जियोवानी के बेसिलिका के मठ में चले जाएंगे; जहाँ राष्ट्रपति को हेनरी चतुर्थ का कांस्य प्रतिमा दिखाया जाएगा, जिन्हें सबसे पहला प्रोटोकोनोनिक सम्मान मिला था। जिसे सिस्टो के पोर्टिको में रखा गया है। अंत में वे लातेरन अपोस्टोलिक पैलेस में साला देल्ला कोंचिलिआज्योने (समझौता कक्ष) और साला देल्ली इम्पेरातोरी (राजाओं का कक्ष) का दर्शन करेंगे।

हेनरी चतुर्थ सम्मान के पहले प्रोटोकोनोनिक थे। यह प्राचीन परंपरा फ़्रांस को संत जोवान्नी लातेरन महागिरजाघर से जोड़ती है। पेरिस के मूल रूप से चापटर के अभिलेखागार मॉन्सन्योर लुइस डुवाल अर्नाल्ड ने बताया कि लगभग 1300,  में विशेष रूप से उस समय बेसिलिका के गुंबद का निर्माण का सारा खर्च राजा चार्ल्स पांचवें (1338-1380) द्वारा चुकाया गया था। राजा के हथियारों का कोट अभी भी गुंबद पर दिखाई देता है। यह कोई संयोग नहीं है कि उस समय संत पापा और परमधर्मपीठ अस्थायी रूप से फ्रांस में, एविग्नन में स्थानांतरित हो गया था, जहां संत पापा 1309 से 1377 तक वहीं थे। यह इतिहास में "एविग्नन की कैद" से जाना जाता है। फिर वे रोम लौट आए, लेकिन उनका संबंध नहीं टूटा और आज भी बरकरार है।


(Margaret Sumita Minj)

23/06/2018 16:00