Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

विश्व की घटनायें \ विश्व

विश्व शरणार्थी दिवस : संघर्षों के कारण दुनिया में 30 मिलियन विस्थापित बच्चे

सीरिया के शरणार्थी - AP

20/06/2018 14:40

वाटिकन सिटी, बुधवार 20 जून 2018 (रेई) : बुधवार 20 जून विश्व शरणार्थी दिवस के अवसर पर वाटिकन प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार युद्ध और संघर्षों के कारण दुनिया में 30 मिलियन विस्थापित बच्चे हैं।

 विश्व शरणार्थी दिवस के अवसर पर संयुक्त राष्ट्र बालकोष (यूनिसेफ) याद करता है कि आज संघर्ष के कारण जबरन विस्थापित हुए लगभग 30 मिलियन बच्चे हैं। इन कमजोर बच्चों को सुरक्षा और आवश्यक सेवाएँ देने की आवश्यकता है ताकि वे सुरक्षित रह सकें और लंबे समय तक उनके कल्याण सुनिश्चित करने के लिए टिकाऊ समाधान सुनिश्चित किया जा सके।

अभिभावकों के बिना अकेले चलने वाले शरणार्थी और प्रवासी बच्चों की वैश्विक संख्या भी अभूतपूर्व स्तर तक पहुंच गई है, जो 2010 और 2015 के बीच का लगभग 5 गुना बढ़ गई है। 2015 के बीच लगभग 80 देशों में कम से कम 300,000 माता पिता से बिछूड़े और अनाथ बच्चे पंजीकृत हैं और 2010-2011 की तुलना में 2016, में  66,000 अकेले चलने वाले बच्चों की संख्या शायद अधिक है। ये बच्चे तस्करी, शोषण, हिंसा और दुर्व्यवहार के अधिक जोखिम के संपर्क में आते हैं। ये बच्चे विश्व स्तर पर तस्करी पीड़ितों के लगभग 28% का प्रतिनिधित्व करते हैं।

शरणार्थियों के समर्थन में एक व्यापक कार्य योजना पर चल रही चर्चाओं में से, यूनिसेफ ने दुनिया के सबसे कमजोर बच्चों के अधिकारों, सुरक्षा और कल्याण की गारंटी के लिए अपने प्रयासों को दोगुणा बढ़ाने के लिए विश्व के नेताओं से मांग की - जिनमें से कई संघर्ष, हिंसा और राजनीतिक अस्थिरता के कारण विस्थापित हैं।

विश्व शरणार्थी दिवस पर, यूनिसेफ के आपातकालीन कार्यक्रम के निदेशक मैनुअल फॉन्टेन ने कहा, " बच्चों को हर दिन सामना करने वाले खतरों और चुनौतियों को याद रखना महत्वपूर्ण है।" "प्रवासन के लिए बाध्य किये गये बच्चे - शरणार्थी, शरण तलाशने वाले या आंतरिक रूप से विस्थापित लोग - अपने स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए गंभीर जोखिम का सामना करते हैं, साथ ही बड़ी बाधाएं जो उन्हें बढ़ने के लिए आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं को भी सीमित कर देती हैं। इन बच्चों को आशा, अवसर और सुरक्षा की आवश्यकता होती है। हम सदस्य देशों से इन बच्चों के अधिकारों और महत्वाकांक्षाओं की गारंटी के लिए अपनी प्रतिबद्धताओं को नवीनीकृत करने का अनुरोध करते हैं।"


(Margaret Sumita Minj)

20/06/2018 14:40