Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

वाटिकन \ घटनायें

युवा तीर्थयात्रियों को संत पापा ने फोन कर संदेश दिया

युवाओं के साथ संत पापा फ्राँसिस - ANSA

11/06/2018 15:35

वाटिकन सिटी, सोमवार 11 जून 2018 (रेई) : शनिवार 9 जून को माचेराता-लोरेटो नाइट मार्च में भाग लेने वाले इटली के युवा तीर्थयात्रियों के साथ एक टेलीफोन वार्तालाप में, संत पापा फ्राँसिस ने उनसे सच्ची खुशी का आनंद लेने का आग्रह किया जो दूसरों को प्यार करते और दूसरों का प्यार स्वीकार करते हैं।

"जीवन एक सफर है। हमेशा आगे बढ़ें, अपने लिए और दूसरों के लिए खुशी की तलाश करें।" यह संत पापा फ्रांसिस का संदेश उन युवाओं के लिए था जो माचेराता-लोरेटो नाइट मार्च तीर्थयात्रा में भाग लेने वाले युवा लोगों के लिए शनिवार की शाम को आयोजित किया गया था।

इस घटना में हजारों युवा तीर्थयात्रियों ने इटली के "ले मारके" क्षेत्र में पहाड़ी रास्ते से होते हुए रात में ‘माचेराता’ से ‘लोरेटो का घर’ तक 28 किलोमीटर तय की।

'आप जीवन में अभी रुक नहीं सकते'

संत पापा ने कहा, "आप लोग बहादुर युवा हैं जो जीवन के रास्ते में आगे बढ़ रहे हैं ... यह एक अच्छा संकेत है। क्योंकि जीवन में कोई भी खड़ा नहीं रह सकता ... क्योंकि एक युवा व्यक्ति जो अभी ही खड़ा है वह 20 वर्ष की उम्र में ही रिटायर जैसा है और यह बुरी बात है। उन्होंने कहा "युवाओ, अगर आपको अच्छी तरह से जीना है, तो बाहर निकलो और अपने जीवन को फलदायी बनाओ।"

'खुशी प्यार करने और प्यार स्वीकार करने में है'

संत पापा फ्राँसिस ने कहा, "खुशी", "सुपरमार्केट में आप जो कुछ खरीदते हैं वह नहीं है। खुशी केवल प्यार से आती है और खुद को प्यार करने देती है, यानी दूसरों से प्यार का अनुभव कराती है। लड़ाई-झगड़े आपको खुशी नहीं देती है; शत्रुता आपको खुश नहीं देती हैं; दूसरों की शिकायत करना आपको खुशी नहीं देती।" "एक दूसरे के लिए प्यार और सेवा खुशी का मार्ग है।"

संत पापा ने उन्हें "हमेशा आगे बढ़ने, क्षितिज को देखने, जीवन में एक समय में एक कदम उठाने के लिए आमंत्रित किया।" वे अपने स्कूली जीवन के लिए धन्यवाद दें।

वार्षिक मारचेराता-लोरेटो नाइट मार्च फादर जॉनकारलो वेचेरिक्का द्वारा 1978 में शुरू किया गया। वर्तमान में वे  फबियानो-मातेलिका धर्मप्रांत के सेवानिवृत धर्माध्यक्ष हैं। उन्होंने इस तीर्थयात्रा को इटली के युवाओं के स्कूली जीवन के अंत में लोरेटो की माता मरियम को विशेष रुप से धन्यवाद देने के लिए शुरू किया था।


(Margaret Sumita Minj)

11/06/2018 15:35