Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

विश्व की घटनायें \ विश्व

निकारागुआ में येसु समाजियों द्वारा शांतिपूर्ण संकल्प का मांग

कार्डिनल लियोपोल्डो ब्रेन्स राष्ट्रपति डैनियल ओर्टेगा के साथ मानागुआ में एक बैठक के बाद समाचार सम्मेलन में बोलते हुए - REUTERS

11/06/2018 15:15

निकारगुआ, सोमवार 11 जून 2018 (वीआर,रेई) : निकारागुआ के राजनीतिक तनाव और हिंसा के माहौल में मध्य अमेरिका के येसु समाजी राजनीतिक संकट के लिए एक शांतिपूर्ण वार्ता के प्रस्ताव की मांग रहे हैं।

शनिवार को जारी एक बयान में, निकारागुआ में येसु समाजियों ने पुष्टि की है कि संकट का शांतिपूर्ण परिणाम जनसंख्या की सर्वसम्मति इच्छा है, जो लोकतंत्र, स्वतंत्रता और न्याय का दावा कर रहे हैं।

येसु समाजियों का कहना है कि निकारागुआ में ऐसी संवैधानिक और नैतिक मांग का समर्थन करने के लिए 100 से अधिक लोग मारे गए हैं। वे इस बात से आश्वस्त है कि राष्ट्र को कट्टरतावाद, अधिक रक्तपात और अधिक संघर्ष से बचाने के लिए अभी भी समय है। वे उन लोगों से आग्रह करते है जो शांति चाहते हैं वे युद्ध न करें और जो लोग हिंसा नहीं चाहते हैं वे हमला और किसी तरह का दुर्व्यवहार न करें।

येसु समाजियों का कहना है कि धर्माध्यक्षीय सम्मेलन द्वारा आयोजित गोल मेज वार्ता में शामिल होने और मानवाधिकारों का बचाव करने में छात्रों का समर्थन करने के कारण सेंट्रल अमेरिकन यूनिवर्सिटी ऑफ निकारागुआ के रेक्टर फादर जोसे अल्बेर्टो इडियाक्ज एस.जे. का जीवन खतरे में है।

राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों, संयुक्त राष्ट्र संघ, यूरोपीय संसदों, दुनिया के सभी जेसुइट विश्वविद्यालयों, प्रत्येक कलीसिया और मानव गरिमा की रक्षा में लगे सभी लोगों से अपील करते हुए बयान का अंत किया गया। यह देश में एक शांतिपूर्ण और बातचीत के संकल्प का दृढ़ता से समर्थन करता है।

यह निकारागुआ के उन सभी लोगों के शारीरिक सम्मान की भी मांग करता है, जो शांति और न्याय के लिए काम कर रहे हैं।


(Margaret Sumita Minj)

11/06/2018 15:15