Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

विश्व की घटनायें \ विश्व

हिंसक अतिवाद के खिलाफ मिंदानाओ के धार्मिक नेता एकजुट

मिंदानाओ में बड़े मॉल के जलने से राष्ट्पति एक बच्ची को सांत्वना देते हुए - AFP

23/05/2018 16:34

मनिला, बुधवार 23 मई 2018 (उकान) : मिंदानाओ में धार्मिक नेताओं ने आतंकवादी बंदूकधारियों द्वारा दक्षिणी फिलीपीन शहर मारावी पर 23 मई के हमले की पहली सालगिरह से पहले "हिंसक अतिवाद" के खिलाफ एक एकीकृत मोर्चा घोषित कर दिया है।

पांच महीने के संघर्ष में एक हज़ार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई और इसके परिणामस्वरूप मुख्य रूप से मुस्लिम शहर और इसके आसपास के शहरों और गांवों के लगभग 400,000 निवासियों को विस्थापित होना पड़ा था।

एक घोषणापत्र में मिंदानाओ के लोगों को "पुनर्स्थापित करने की आवश्यकता ... विश्वास और पारस्परिक देखभाल के संबंध" की घोषणा की गई।

साथ ही इस बात पर गौर किया गया कि मारावी में संघर्ष से पहले, स्थानीय ख्रीस्तीय और मुस्लिम समुदायों के बीच सामंजस्यपूर्ण संबंध थे।

काथलिक धर्माध्यक्ष, पुरोहित, मुस्लिम विद्वानों और धार्मिक नेताओं द्वारा हस्ताक्षरित घोषणापत्र में लिखा था, "हम सभी हिंसक अतिवाद के खिलाफ हैं।"

यह कहा गया है कि सशस्त्र समूहों में शामिल होने का आकर्षण विशेष रूप से युवा मुसलमानों के बीच महसूस किया गया है, जिनके वादों को पूरा करने में सरकार विफल रही है।

एक बयान में, कागायन डी ओरो के महाधर्माध्यक्ष अंतोनियो लेडसमैन ने आशा व्यक्त की कि मारावी हमले की सालगिरह "ख्रीस्तीय और मुस्लिम दोनों के लिए विकास और शांति की संस्कृति बनाने में एक साथ काम करने के लिए एक स्पष्ट बुलावा है।

महाधर्माध्यक्ष अंतोनियो ने हाल ही में उन मुद्दों पर चर्चा करने के लिए 12 ख्रीस्तीय पुरोहितों और 12 मुस्लिम मौलवियों  की सभा की मेजबानी की जो वे सरकार के साथ चर्चा करना चाहते थे।

धार्मिक नेताओं ने अपने बयान में कहा, "मुस्लिम और ख्रीस्तीय धार्मिक नेताओं को मिंदानाओ और बाकी देश में शांति की संस्कृति को बनाने के लिए एकजुट होकर काम करना चाहिए।"

उन्होंने सरकार को सुझाव दिया कि विस्थापित मारावी निवासियों को अपने शहर के पुनर्निर्माण में भाग लेने की अनुमति दी जाए। धार्मिक नेताओं ने कहा, "पड़ोसी शहरों में अपने रिश्तेदारों के साथ या विस्थापित केंद्रों में पहले से ही उन्हें बहुत पीड़ा हुई है।"

उन्होंने "शांति शिक्षा" को बढ़ावा देने के लिए शिक्षा संस्थानों, विशेष रूप से मदरसा, या इस्लामी स्कूलों में अपनी भूमिका भी निभाई।

धार्मिक नेताओं ने कहा, "मिंदानाओ में सभी हितधारकों को दीर्घकालिक समाधान ढूँढ़ने की जरूरत है।"

अक्टूबर में समाप्त हुई लड़ाई के परिणामस्वरूप 974 आतंकवादियों, 168 सैनिकों और पुलिसकर्मियों और 47 नागरिकों की मौत हुई।

सरकारी सेना बल अभी भी उन विस्फोटक उपकरणों को ढूँढ़ निकालने के लिए अभियान का संचालन कर रही हैं जो आतंकवादियों द्वारा छोड़े गए थे।

अधिकारियों ने लड़ाई से प्रभावित 24 गांवों में से 85 प्रतिशत स्थानों का निरीक्षण पूरा कर दिया है।  


(Margaret Sumita Minj)

23/05/2018 16:34