Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

विश्व की घटनायें \ विश्व

केन्या के धर्माध्यक्षों ने नेकुरु-सोलाई बांध त्रासदी के परिवारों को सांत्वना दी

सोलाई में टूटा हुआ पटेल बांध - AP

14/05/2018 16:25

नैरोबी, सोमवार 14 मई 2018 (रेई) : न्याय और शांति आयोग के माध्यम से केन्या के धर्माध्यक्षों ने बाढ़ से प्रभावित परिवारों की मौत और विनाश पर गहरा दुःख व्यक्त किया।

कहा जाता है कि पिछले हफ्ते बुधवार की रात को राजधानी नैरोबी के उत्तर-पश्चिम में 190 किमी दूर सोलाई में पटेल बांध की दीवारों के टूटने की वजह से 70 मिलियन लीटर पानी बह जाने से एक पूरा गांव चपेट में आ गया। इससे 45 लोगों ने अपनी जिंदगी खो दी है,और सैकड़ों परिवारों को विस्थापित कर दिया गया है।

त्रासदी ने सोलाई के छोटे शहर को घरों, स्कूलों और व्यवसायों को व्यापक नुकसान पहुँचाया। पटेल बांध केन्या कृषि व्यवसाय और आयोडीनयुक्त नमक निर्माता पेरी मनसुखलाल कंसग्रा के स्वामित्व वाले तीन जल जलाशयों में से एक है। सरकारी इंजीनियरों ने शुक्रवार को दो अन्य बांधों को सूखा दिया। उन्होंने कहा कि निवासियों के लिए इसी तरह के खतरे पैदा हो सकते हैं।

धर्माध्यक्ष इस त्रासदी से बहुत दुखी हैं

केन्या काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के न्याय और शांति आयोग के अध्यक्ष नेगोंग धर्मप्रांत के धर्माध्यक्ष जॉन ओबाला ओवा ने मीडिया से कहा,“न्याय और शांति आयोग के माध्यम से केन्या के धर्माध्यक्षों ने बाढ़ से प्रभावित परिवारों की मौत और विनाश पर गहरा दुःख व्यक्त किया।नकुरु-सोलाई बांध त्रासदी सबसे बुरी और चौंकाने वाला था। हम मुरंगा, किलीफ़ी, लामू, नारोक, ताना नदी से प्रभावित लोगों के प्रति हमारी हार्दिक संवेदना प्रकट करते हैं। हम देश भर में घायल और बड़े पैमाने पर विनाश के नुकसान से बहुत दुखी हैं।”


(Margaret Sumita Minj)

14/05/2018 16:25