Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ विश्व की कलीसिया

यूनेस्को ने अफगानिस्तान के हमलों में 11 पत्रकारों की हत्या की निंदा की

यूनेस्को की महानिदेशक, ऑड्रे अज़ौले - REUTERS

01/05/2018 17:09

पेरिस, मंगलवार, 1 मई 2018 (रेई)˸ यूनेस्को की महानिदेशक, ऑड्रे अज़ौले ने अफगानिस्तान में हमलों की निंदा की जिसने 25 और 30 अप्रैल को कई नागरिकों के साथ विभिन्न घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मीडिया के कुल ग्यारह पत्रकारों का जीवन ले लिया।

उन्होंने कहा, "मैंने अफगानिस्तान में हुए हालिया क्रूर हमलों की निंदा करती हूँ, जिसमें पत्रकारों, ख्रोस्त के अहमद शाह, महाराम दारानी, शाह मारई फीजी, एबाडोल्ला हनानजी, सबवन केकेकर, नोरोजली रजबी, गाजी रासोली, अली सलीमी, सलीम तालाश और काबुल में यार मोहम्मद तोखी तथा उनके साथ कई अन्य नागरिक, साथ-साथ कंधार में अब्दुल मानन अरघंद पर गोली मारी गयी।"

उन्होंने कहा कि इन जघन्य हमलों ने पत्रकारों की जिम्मेदारियों को पूरा करने में बड़े खतरों को उजागर किया है। ऐसे अपराधों के लिए जिम्मेदार लोगों को न्याय में लाया जाना चाहिए। मेरी सहानुभूति पीड़ितों के परिवारों और अफगानिस्तान के लोगों के लिए है।

30 अप्रैल को काबुल में इन हमलों में सबसे घातक, दो विस्फोट हुए जिसमें बचाव कर्मियों और अन्य नागरिकों के साथ नौ पत्रकारों की मौत हो गई। कुछ घंटे बाद बीबीसी पत्रकार अहमद शाह को खोस्त में गोली मार दी गई थी।

काबुल समाचार के टेलीविजन प्रसारक और चीनी समाचार एजेंसी, सिन्हुआ के लिए काम करने वाले अब्दुल मानन अरघंद को 25 अप्रैल को कंधार में गोली मार दी गई थी।

यूनेस्को, वैश्विक जागरूकता बढ़ाने, क्षमता निर्माण और कार्यों की एक श्रृंखला के माध्यम से पत्रकारों की सुरक्षा को बढ़ावा देता है, विशेष रूप से, पत्रकारों की सुरक्षा पर संयुक्त राष्ट्र योजना की पहल और प्रतिरक्षा जारी करने के द्वारा।


(Usha Tirkey)

01/05/2018 17:09