Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

संत पापा फ्राँसिस \ मुलाक़ात

प्रादो पुरोहितों से संत पापा, गरीबों को सुसमाचार सुनाया जाना आवश्यक

- AP

07/04/2018 13:00

वाटिकन सिटी, शनिवार, 7 अप्रैल 2018 (रेई)˸ संत पापा फ्राँसिस ने शनिवार, 7 अप्रैल को वाटिकन के लोकसभा परिषद भवन में प्रादो के पुरोहितों की संस्था के 30 सदस्यों से मुलाकात की जो तीर्थयात्रा हेतु रोम आये हैं।  

प्रादो के पुरोहितों की संस्था की स्थापना फादर अंतोइने केवरियर ने सबसे गरीब लोगों की सेवा के लिए की है।

संत पापा ने मुलाकात में प्रसन्नता जाहिर करते हुए कहा, "यह मुलाकात मुझे आपके धन्य संस्थापक द्वारा की गयी यात्रा के लिए ईश्वर को शुक्रिया अदा करने का अवसर प्रदान करता है, जो अपने समय के सबसे गरीब लोगों की जरूरतों से प्रभावित थे तथा जिन्होंने उनके करीब रहने का निश्चय किया था ताकि वे ख्रीस्त को जान सकें और प्यार कर सकें। तब से यह पौधा विकसित होता रहा और अब पुरोहितों, धर्मबहनों एवं समर्पित लोकधर्मी महिलाओं के रूप में एक सुन्दर परिवार बनकर विभिन्न देशों में फैल गया है। आप येसु के उसी प्रेम से प्रेरित होकर एवं सुसमाचार प्रचार के उत्साह से भरे रहें जो गरीबों के बीच गरीब बने।

संत पापा ने कहा कि हमारे इस युग में भौतिक एवं आध्यात्मिक गरीबी है एवं कई लोग हैं जो पीड़ित एवं घायल हैं तथा लोगों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। कई बार वे कलीसिया से दूर, सुसमाचार से मिलने वाले आनन्द एवं सांत्वना वंचित रहते हैं।  

संत पापा ने पुरोहितों को सम्बोधित कर कहा कि माता कलीसिया फादर केवरियर के अनुयायियों के मिशन से प्रसन्न है तथा उनके योगदान को महसूस करती है। उन्होंने कहा कि उनकी वह विशिष्ठता जो उन्हें व्यक्तिगत रूप से प्रभावित करती है, वह है मिशनरी नवीनीकरण जिसके लिए पूरी कलीसिया बुलायी जाती है क्योंकि इसमें सुसमाचार प्रचार एवं मानवीय प्रोत्साहन के बीच गहरा संबंध है, जिसको हर सुसमाचार प्रचार के कार्य में व्यक्त एवं विकसित होने की आवश्यकता है।

संत पापा ने संस्थापक फादर केवरियर की याद दिलाते हुए पुरोहितों को निमंत्रण दिया कि वे उनका अनुकरण करें, उनके जीवन पर चिंतन करें एवं उनकी मध्यस्थता द्वारा प्रार्थना करें। गरीबों के प्रति गहरी सहानुभूति का जो अनुभव उन्होंने किया था, उन्हें समझा तथा उनके दुखों को बांटा था, साथ ही साथ ख्रीस्त के कपड़ों को उतारे जाने पर चिंतन किया था, उनके प्रेरितिक उत्साह के स्रोत थे। संत पापा ने कहा कि यही उत्साह उनकी मिशनरी गतिविधियों को प्रेरित करे।

संत पापा ने उनके लिए कामना की कि पवित्र आत्मा उनका पथ प्रदर्शन करे तथा चुनौतियों एवं कठिनाइयों की घड़ी में उन्हें सांत्वना प्रदान करे। उन्होंने धन्य अंतोइने केवरियर की मध्यस्थता द्वारा प्रार्थना करते हुए उन्हें धन्य कुँवारी मरियम के चरणों में सिपूर्त किया तथा उन्हें अपना प्रेरितिक आशीर्वाद दिया।


(Usha Tirkey)

07/04/2018 13:00