Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

वाटिकन \ घटनायें

आत्मकेंद्रित जागरूकता के विश्व दिवस के अवसर पर समग्र मानव विकास सेवा विभाग का एक संदेश

समग्र मानव विकास हेतु गठित परमधर्मपीठ के अध्यक्ष कार्डिनल पीटर टर्कसन - AP

02/04/2018 16:47

वाटिकन सिटी,सोमवार,2 अप्रैल 2018 (रेई) :  आत्मकेंद्रित अर्थात ऑटिज्म स्पेक्ट्रम विकार जागरूकता के विश्व दिवस के अवसर पर समग्र मानव विकास हेतु गठित परमधर्मपीठ के अध्यक्ष कार्डिनल पीटर टर्कसन ने अपने संदेश में कहा,“ आत्मकेंद्रित जागरूकता का 11वां विश्व दिवस संयोग से इस वर्ष पास्का पर्व के बाद के सोमवार को पड़ा है जिसे पास्का सोमवार भी कहा जाता है। इस दिन येसु के पुनरुत्थान की पुनःघोषणा की जाती है “मसीह सचमुच जी उठे अल्लेलूइया।” इस दिन पास्का की खुशी और आशा को कलीसिया सभी लोगों तक विशेष रुप से आत्मकेंद्रित विकारों से ग्रसित भाई बहनों और उनके परिवारों के बीच बांटना चाहती है।

महामारी विज्ञान के अध्ययन के मुताबिक, पिछले 50 सालों से ऑटिज्म स्पेक्ट्रम विकार वाले लोगों की संख्या में विश्व की वृद्धि हुई है; यह अनुमान लगाया गया है कि इन बीमारियों से प्रत्येक 160  बच्चों में एक बच्चा प्रभावित होता है और इस प्रवृत्ति के बढ़ने की संभावना है। इस प्रवृत्ति को पर्याप्त रूप से प्रतिक्रिया देने में सक्षम होने के लिए एक अधिक प्रतिबद्धता और नये जोश की आवश्यकता है।

कलीसिया, अपने कार्यों के साथ, आत्मकेंद्रित स्पेक्ट्रम विकार वाले लोगों के लिए चिंता करती है। हमारे समुदायों में आम तौर पर उनका स्वागत किया जाता है। "हमारा ख्रीस्तीय समुदाय"वह घर "है जहाँ  हर परिवार दर्द और थकान के भार में भी आपसी समझ और सम्मान महसूस कर सकता है।"

जैसा कि संत पापा फ्रांसिस ने पुष्टि करते हुए कहा, "समर्थन की ठोस कार्य में स्वीकृति, बैठक, एकता को बढ़ावा देने के लिए सभी की प्रतिबद्धता और उम्मीद के नए सिरे से प्रोत्साहन को आवश्यक है, इस प्रकार यह आत्मकेंद्रित स्पेक्ट्रम विकार को तोड़ने में योगदान देता है।"

मैं कार्डिनल टर्कसन ने कहा,“ऑप्टिज्म स्पेक्ट्रम विकार लोगों के परिवारों, विभिन्न संगठनों, पल्लियों और सामाजिक-स्वास्थ्य श्रमिकों, पुरोहितों, धर्मसंघियों, स्वयंसेवकों और जो सभी अलग-अलग तरीकों से देखभाल, सहायता और पूर्ण बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं, उन सभी का धन्यवाद करता हूँ।

हम कोमलता की मां मरिया के हाथों, उन सभी ऑप्टिज्म स्पेक्ट्रम के विकारों से ग्रसित भाइयों और बहनों और उनके परिवारों को सौंप देते हैं, ताकि जीवनयात्रा के प्रत्येक चरण में, ईस्टर के प्रकाश से प्रबुद्ध होकर,  एकता और समर्थन के ठोस कार्य करने के लिए प्रेरित हो सकें। ।


(Margaret Sumita Minj)

02/04/2018 16:47