Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ एशिया की कलीसिया

ग़रीबों, कैदियों एवं विकलांग लोगों की मदद हेतु चालीसा काल का निमंत्रण

पाकिस्तान के काथलिक, क्रूस रास्ता की प्रार्थना करते हुए। - AFP

24/03/2018 13:04

लाहौर, शनिवार, 24 मार्च 2018 (एशियान्यूज)˸ काथलिक कलीसिया ग़रीबों, बीमार, विकलांग तथा कैदियों की विभिन्न तरह से मदद कर, चालीसा काल को अधिक अर्थपूर्ण बनाने की कोशिश करती है। इस तरह वह समाज के दलित लोगों की मदद कर अपनी सेवा को नवीकृत करती है।

हर साल की तरह फैसलाबाद में अकबारबाद क्षेत्र के काथलिक विश्वासी गिरजाघर के निकट एक सूखे पेड़ के नीचे खाद्य सामग्री की थैली रख रहे हैं।

फैसलाबाद धर्मप्रांत के विकर जेनेरल फादर कामरन ताज ने एशियान्यूज़ को बतलाया, ̎मृत पेड़ संग्रह विन्दु बन गया है। हमारे प्रचारक उन्हें गिरजाघर के अंदर लाते हैं। पुण्य सप्ताह के दौरान हम 20 गरीब परिवारों एवं विधवाओं को भोजन खिलाते हैं जो दान संग्रह द्वारा सम्भव होता है।̎

पुरोहितों द्वारा सईद आबाद क्षेत्र में सेंट जेरार्ड में स्कूल छोड़ने वालों के लिए मुफ्त पाठ्यक्रम आयोजित किया जाता है। दो घंटों तक चलाये जाने वाले पाठ्यक्रम का उद्देश्य है गरीब परिवारों की सहायता करना।

चालीसा के समय दान संग्रह हेतु पेड़ के प्रयोग की परम्परा इस मुस्लिम बहुत देश में 129 पल्लियों में जारी है।

चालीसा के दौरान गिरजाघर में सेमिनार, रेडियो कार्यक्रम तथा दैनिक पाठ, उदारता की भावना को प्रोत्साहन आदि कार्यक्रम चलाये जाते हैं ताकि 40 दिनों के उपवास को सार्थक बनाया जा सके। लाहौर स्थित पवित्र हृदय महागिरजाघर के प्रतिधर्माध्यक्ष ने गौर किया कि चालीसा काल के दौरान हर साल पल्ली द्वारा तीर्थयात्रा करने वालों के लिए आर्थिक सहायता भी प्रदान की जाती है।

कारीतास पाकिस्तान की लाहौर शाखा कैदियों, विकलांग एवं अन्य लोगों को उनके कौशल विकास में मदद करती है।

सीपीएल मानव संसाधन प्रबंधन के प्रमुख नाईम नाज़ ने कहा कि विश्वासियों के बीच करीब 50,000 दान पेटी एवं 20,000 लिफाफ वितरित किये गये हैं।


(Usha Tirkey)

24/03/2018 13:04