Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ विश्व की कलीसिया

सन जोवान्नी रोतोंदो में संत पापा करेंगे युवाओं से मुलाकात

सन जोवान्नी रोतोंदो - ANSA

14/03/2018 16:10

वाटिकन सिटी, बुधवार, 14 मार्च 2018 (रेई)˸ संत पापा फ्राँसिस 17 मार्च को पेत्रोलचिना एवं सन जोवान्नी रोतोंदो की एक दिवसीय प्रेरितिक यात्रा करेंगे जहाँ युवाओं द्वारा उसकी पूर्व संध्या पर जागरण प्रार्थना का आयोजन किया गया है।

एक साक्षात्कार में संत पापा की यात्रा हेतु की जा रही तैयारियों की जानकारी देते हुए सन जोवान्नी रोतोंदो के महाधर्माध्यक्ष मिखाएले कार्तोरो ने वाटिकन न्यूज़ से कहा कि संत पापा फ्राँसिस की यात्रा का इंतजार पेत्रोलचिना एवं सन जोवान्नी रोतोंदो में बड़ी आशा के साथ की जा रही है जो पाद्रे पीयो के जीवन को प्रकाशित करने के लिए एक महत्वपूर्ण यात्रा होगी। इस अवसर का आयोजन पाद्रे पीयो की मृत्यु की 50वीं वर्षगाँठ पर किया गया है।

उन्होंने कहा कि वहाँ के विश्वासी अत्यन्त उत्साहित हैं तथा सन जोवान्नी रोतोंदो में हज़ारों लोगों के जमा होने की उम्मीद की जा रही है। तैयारियों में संत पापा के आगमन की पूर्व संध्या युवाओं द्वारा रात्रि जागरण सबसे महत्वपूर्ण है।     

महाधर्माध्यक्ष ने बतलाया कि इस अवसर की तैयारी हेतु विभिन्न पल्लियों में प्रार्थना, धर्मविधिक अनुष्ठान एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन किये गये हैं ताकि संत पापा की धर्मशिक्षा एवं उनके उदारता के भावों पर चिंतन किया जा सके क्योंकि आज संत पापा ने संस्कृतिक परिदृश्‍य में भी एक ताजगी लाई है।

पाद्रे पीयो का व्यक्तत्व आज किस तरह व्यक्ति को ख्रीस्त से मुलाकात करने में मदद देता है? 

इसके उत्तर में महाधर्माध्यक्ष ने कहा कि पाद्रे पीयो एक आधारभूत व्यक्ति थे यही कारण है कि संत पापा फ्राँसिस उन्हें पसंद करते हैं। यद्यपि वे, जो मनोरंजन, खेल- कूद, राजनीति जगत एवं सभी तरह के लोगों से घिरे हैं, तथापि वे सन जोवान्नी रोतोन्दो आकर उनसे मिलना चाहते हैं। पाद्रे पीयो दुनिया के आकर्षण से दूर थे तथा उन्होंने लोगों को प्रभु के प्रति कृतज्ञ होने के लिए प्रेरित किया। वे एक चमत्कारी व्यक्ति थे जिन्होंने सुबह से शाम तक प्रार्थना की तथा दिन में कई घंटों तक पाप स्वीकार सुने। अस्पताल ̎ कासा सोल्लिएवो देल्ला सोफ्रेंत्सा ̎ की नींव उन्हीं की प्रेरणा पर डाली गयी जो आज न केवल इटली किन्तु यूरोप में भी एक प्रसिद्ध अस्पताल बन गया है।   


(Usha Tirkey)

14/03/2018 16:10