Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ विश्व की कलीसिया

पोप बेनेडिक्ट XVI ने पोप फ्रांसिस के प्रशासन की निरंतरता को रेखांकित किया

ससम्मान सेवा निवृत संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें से मुलाकात करते संत पापा फ्राँसिस

13/03/2018 16:13

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 13 मार्च 2018 (वाटिकन न्यूज़)˸ वाटिकन ने "द थेओलोजी ऑफ पोप फ्राँसिस" (संत पापा फ्राँसिस का ईशशास्त्र) शीर्षक की किताब को 12 मार्च को प्रकाशित किया।

ससम्मान सेवा निवृत संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें ने 11 श्रृखलाओं की इस किताब के प्रकाशन पर कृतज्ञता व्यक्त करते हुए वाटिकन संचार सचिवालय के अध्यक्ष मोनसिन्योर दारियो बिगनो को एक पत्र लिखा। 

वाटिकन संचार सचिवालय के अध्यक्ष मोनसिन्योंर दारियो एदवार्दो विगनो ने इताली भाषा में लिखे इस किताब को, वाटिकन संचार के प्रमुख कार्यालय स्थित साला मारकोनी में, एक प्रेस सम्मेलन में प्रस्तुत करते हुए, इसपर ससम्मान सेवानिवृत संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें की सकारात्मक प्रतिक्रिया पर गौर किया।   

उन्होंने संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें के पत्र पर टिप्पणी करते हुए कहा, "संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें हमेशा की तरह दो परमधर्माध्यक्षों की आध्यात्मिक एकता पर अपना एक महत्वपूर्ण योगदान देना चाहते थे।"

उन्होंने कहा, ̎संत पापा फ्राँसिस की धर्मशिक्षा पर गौर करते हुए संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें लिखते हैं कि उनकी (संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें) धर्मशिक्षा एवं संत पापा फ्राँसिस की धर्मशिक्षा में, दो परमाध्यक्षों के बीच आंतरिक एकता परिलक्षित होती है।’̎  

"द थेओलोजी ऑफ पोप फ्राँसिस "11 श्रृंखलाओं की किताब है जिसे 11 विभिन्न लेखकों ने तैयार किया है।

संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें ने अपने पत्र में लिखा, "मैं इस पहल की सराहना करता हूँ। यह उस मूर्खतापूर्ण पूर्वाग्रह का खंडन करता है जो संत पापा फ्राँसिस को विशेष ईशशास्त्रीय एवं दर्शनशास्त्रीय प्रशिक्षण से रहित मात्र एक व्यहारिक व्यक्ति के रूप में देखता है, जबकि मैं ईशशास्त्र का मात्र सिद्धांतवादी होता, जिन्हें आज के ख्रीस्तीयों के ठोस जीवन की थोड़ी सी समझ होती।"

संत पापा बेनेडिक्ट ने पत्र में लिखा है कि ये श्रृंखलाएँ अच्छी तरह प्रकट करती हैं कि संत पापा एक ऐसे व्यक्ति हैं जिन्हें दर्शनशास्त्र एवं ईशशास्त्र का गहरा ज्ञान है तथा जो शैली और स्वभाव में कई विविधताओं के बावजूद दो परमाध्यक्षों के बीच आंतरिक निरंतरता को देखने में मदद देता है।

"द थेओलोजी ऑफ पोप फ्राँसिस" किताब का प्रकाशन लिब्रेरिया एदित्रिचे वॉतिकाना द्वारा हुआ।


(Usha Tirkey)

13/03/2018 16:13