Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

विश्व की घटनायें \ विश्व

मानव अधिकारों के विश्वव्यापी घोषणा की 70वीं वर्षगांठ पर महाधर्माध्यक्ष यूर्कोविच का संदेश

वाटिकन राजनायिक एवं स्थायी पर्यवेक्षक महाधर्माध्यक्ष इवान यूर्कोविच - RV

02/03/2018 15:59

जेनेवा, शुक्रवार 02 मार्च 2018 (रेई) : संयुक्त राष्ट्र संघ में वाटिकन राजनायिक एवं स्थायी पर्यवेक्षक महाधर्माध्यक्ष इवान यूर्कोविच ने सोमवार को जिनेवा में मानव अधिकारों के विश्वव्यापी घोषणा ‘यूडीएचआर’ की सत्तरहवीं वर्षगांठ पर मानव अधिकार परिषद के 37 वें सत्र में संदेश दिया।

उन्होंने कहा कि मानव अधिकारों की विश्वव्यापी घोषणा की सत्तरहवीं वर्षगांठ मानव अधिकार, मौलिक स्वतंत्रता और मानवीय गौरव, वैश्विक और विभिन्न सांस्कृतिक चर्चाओं के महत्व को फिर से पुष्टि करने का एक अनूठे अवसर का प्रतिनिधित्व करता है। यह घोषणा एक दार्शनिक सार या कानूनी निर्माण के रूप में तैयार नहीं की गई थी बल्कि, यह "विभिन्न धार्मिक और सांस्कृतिक परंपराओं के सम्मिलन का परिणाम था, जो सभी मानव व्यक्ति के दिल में संस्थानों, कानूनों और समाज के कामकाज को जगह देने की आम इच्छा से प्रेरित था।"

परमाणु बमों के इस्तेमाल से मानव जीवन और संपत्ति के विनाश की अनैतिकता की स्थिति पैदा हो गई थी। मानव गरिमा के खिलाफ अपराधों ने संयुक्त राष्ट्र संगठन को "हमारे समय के मानव विवेक की सर्वोच्च अभिव्यक्ति को" तैयार करने के लिए प्रेरित किया।

‘यूडीएचआर’ एक मौलिक कार्य का प्रतिनिधित्व करता है जिसके माध्यम से लोगों, राज्यों और अंतरराष्ट्रीय संस्थानों ने पुष्टि की है कि मानव परिवार के सभी सदस्यों के समान स्वामित्व और समान एवं अपरिहार्य अधिकारों की मान्यता "दुनिया में स्वतंत्रता, न्याय और शांति की नींव है।"

इस घोषणा में "किसी भी तरह के भेद, जैसे वंश, रंग, लिंग, भाषा, धर्म, राजनीतिक,राष्ट्रीय या सामाजिक मूल, संपत्ति, जन्म या अन्य स्थिति के बिना समाजिक जीवन में एक पूर्ण हिस्सेदारी के समर्थन के लिए दुनिया भर के पुरुषों और महिलाओं ने अपील की है।

 संत पापा फ्राँसिस ने इस बात पर जोर दिया है कि, सत्तर साल बाद भी, "यह देखना बहुत दर्दनाक है कि आज भी मौलिक अधिकारों का कितना उल्लंघन किया जा रहा है" जैसा कि लेख 28 में व्यक्त किया गया है, शांति की अवधारणा यह पुष्टि करती है कि "हर कोई एक सामाजिक और अंतर्राष्ट्रीय आदेश के हकदार है, जिसमें इस घोषणापत्र में निर्धारित अधिकारों और स्वतंत्रता पूरी तरह से महसूस हो सकती हैं।" "शांति को केवल हिंसा की अनुपस्थिति के रूप में नहीं माना जाता है बल्कि सहयोग और एकता भी शामिल है। शांति को बढ़ावा देने, या पुनर्स्थापना के लिए, न्याय की व्यवस्था को बहाल करने के लिए आवश्यक है,दूसरों की स्वतंत्रता और एकता का सम्मान करना।

अन्य सभी मानवाधिकारों और मौलिक स्वतंत्रता के संबंध में धर्म या विश्वास की स्वतंत्रता लिटमस परीक्षा है; यह उनके संश्लेषण और मुख्य आधार है धार्मिक स्वतंत्रता कानून के तहत समान और प्रभावी संरक्षण की मांग करती है, खासकर धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए, उन्हें अपनी संस्कृति का आनंद लेने का अधिकार है। उन्हें व्यक्तिगत और सार्वजनिक रूप से और बिना हस्तक्षेप, बिना भेदभाव के धर्म का प्रचार करने और उनका पालन करने की स्वतंत्रता है।

परमधर्मपीठ का मानना है कि अंतर्राष्ट्रीय समुदायों और सरकारों को मानव अधिकारों के संरक्षण और प्रत्येक व्यक्ति और समुदाय की मौलिक स्वतंत्रता पर अपनी नीतियों और गतिविधियों पर विशेष ध्यान देना बहुत महत्वपूर्ण है। दरअसल, कानून और अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार के नियम वे साधन हैं जो प्रत्येक व्यक्ति की गरिमा की रक्षा करते हैं यहां तक कि राजनीति और कानून के परिपेक्ष से, मूल्यों और सिद्धांतों की व्यवस्था केवल तभी सफल होती है जब वे व्यक्तियों और समुदायों की सुरक्षा सुनिश्चित करते हैं।


(Margaret Sumita Minj)

02/03/2018 15:59