Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

वाटिकन \ दस्तावेज़

संत मर्था के प्रार्थनालय में संत पापा के ख्रीस्तयाग प्रवचन का तीसरा खंड प्रकाशित

अपना वक्तव्य पेश करते कार्डिनल जॉनफ्रानो रावासी - AP

20/02/2018 16:48

इटली, मंगलवार, 20 फरवरी 2018 (रेई): वाटिकन स्थित संत मर्था के प्रार्थनालय में संत पापा फ्राँसिस के दैनिक मिस्सा के प्रवचन का तीसरा खंड जिसमें सितम्बर 2015 से 2017 के प्रवचन का संकलन है, उसकी प्रतियाँ पुस्तक दुकान में पहुँच चुकी हैं।

"मानवता एवं विस्मयकारी" शीर्षक की किताब में कुल 200 लेख हैं।

कार्डिनल जॉनफ्रानो रावासी ने प्रस्तावना में लिखा, "संत मर्था के प्रार्थनालय में महान उपदेशक संत पापा फ्राँसिस के स्वभाव एवं दर्शन को समझने एवं आत्मसात करने का यह एक विशेष अवसर है, जिन्होंने जीने के एक नये रास्ते का उद्घाटन किया है। उनकी असलियत की पहचान उनके उपदेश में मिलता है जिसको वे बिना किसी सहायक सामग्री के स्वतः पारदर्शी एवं प्रभावपूर्ण भाषा में प्रस्तुत करते हैं।"  

कार्डिनल जॉनफ्रानो ने लिखा कि संत पापा मौलिक तत्व पसंद करते हैं जो सरलता, प्रभावपूर्ण उद्घोषणा, पेचीदाहीन एवं वाक्यांशों में प्रकट होता है।  

वाटिकन रेडियो के पत्रकार द्वारा संपादित 200 लेखों के इस तीसरे खंड में संत पापा सभी के साथ मेल-मिलाप करते हुए ईशवचन के हृदय में प्रवेश करने की कुँजी प्रदान करते हैं।

उन्होंने लिखा कि "समय बदलता है और हम ख्रीस्तीयों को भी बदलना है। हम येसु ख्रीस्त में दृढ़ विश्वास एवं सुसमाचार की सच्चाई के साथ अपने आप में बदलाव लायें। हमारा मनोभाव समय के चिन्ह के साथ आगे बढ़े। हम स्वतंत्रता के वरदान जिसको येसु प्रदान करते हैं, ग्रहण करने के लिए स्वतंत्र है किन्तु हमारा कर्तव्य है कि हम अपने विचारों एवं भावनाओं की परख करें तथा मौन, चिंतन एवं प्रार्थना के साथ समय के चिन्ह के अनुसार निर्णय लें।"  


(Usha Tirkey)

20/02/2018 16:48