Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ एशिया की कलीसिया

गिरजागर में हुए लूटमार पर काथलिकों ने प्रार्थना और मौन जुलूस किया

ढ़ाका के एक गिरजाघर में प्रार्थना करते हुए काथलिक विश्वासी - AP

14/02/2018 16:38

ढाका, बुधवार 14 फरवरी 2018 (एशियान्यूज) : ढाका के टॉन्गी इलाके में कैनटरबरी के संत अगस्टीन गिरजाघर में गत सप्ताह को हुए लूटमार की प्रतिक्रिया में सोमवार 12 फरवरी को पुरोहितों, धर्मबहनों सहित 200 से ज्यादा काथलिकों ने प्रार्थना और मौन जुलूस में भाग लिया।

जुलूस का आयोजन पल्ली पुरोहित और स्थानीय समुदाय किया था। प्रतिभागियों ने शोक की निशानी के रूप में काला कपड़ा पहना था। कुछ प्रतिभागियों ने एशिया न्यूज से बात करते हुए होस्ट की अपवित्रता पर अपना दुःख व्यक्त किया।

काथलिक महिला ममता कोस्टा ने कहा, लूटेरों ने न केवल हमारे पुरोहित को मारा पीटा पंरतु हमारे प्रभु येसु मसीह को भी दुःख दिया है। अन्य महिला शिप्रा ने कहा कि इस धटना से वे बहुत दुखी हैं उसने उपवास प्रार्थना शुरु किया है।

फादर चंचल हुबर्ट परेरा ने पल्लीवासियों को उनकी प्रार्थना और मौन जुलूस में भाग लेने हेतु धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा, " मैं ईश्वर के प्रति आभारी हूँ। चोर मुझे मार डाल सकते थे, लेकिन ईश्वर ने मुझे बचा लिया। हम अपने गिरजाघर और होस्ट का पवित्रता और सम्मान के लिए प्रार्थना करना जारी रखें।"

कुछ स्थानीय नेताओं ने अधिकारियों पर अपना गुस्सा प्रकट किया। बांग्लादेशी ख्रीस्तीय संगठन के महासचिव हमान्तो कोर्राया ने कहा, "इस धटना को हुए एक सप्ताह होने को है और पुलिस अभी तक किसी को भी नहीं पकड़ी है। मुझे लगता है कि वे चोरों को पकड़ने में लापरवाही कर रहे हैं।"

उन्होंने कहा कि अगर पुलिस 15 दिनों के अंदर अपराधियों को पकड़ने में विफल हो जाती है, तो वह ढाका के राष्ट्रीय प्रेस क्लब के सामने एक प्रदर्शन आयोजित करेगा।

सोमवार 12 फरवरी शाम को, ढाका के उत्तरा जिले के पुलिस उपायुक्त  नविद कमल ने 12 पुलिसकर्मियों के साथ गिरजाघर का दौरा किया। उन्होंने कहा,"हम गिरजाघर के प्रवेश द्वार पर पांच सीसीटीवी कैमरे स्थापित करेंगे। हम चोरों को पकड़ने की पूरी कोशिश कर रहे हैं।"

टॉन्गी के कैंटरबरी संत अगस्टीन गिरजाघर पर गुरुवार, आठ फरवरी को चोरों ने हमला किया।  डकैती के समय कम से कम पाँच व्यक्ति मौजूद थे जिनमें तीन नकाबपोश थे। चोरों ने पल्ली पुरोहित को धमका कर 35,000 टका यानि लगभग 430 अमरीकी डॉलर, मोबाईल फोन तथा लैपटॉप ले लिया। गिरजाघर में घुसकर उन्होंने वहाँ तोड़-फोड़ मचाई, वेदी से पुस्तक और परिधानों को तितर-बितर कर दिया। ताबूत से पवित्र होस्ट निकाल कर जमीन में फेंक दिया तथा चन्दे की पेटी को तोड़कर उसमें से पैसे चुरा ले गये।


(Margaret Sumita Minj)

14/02/2018 16:38