Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

संत पापा फ्राँसिस \ मुलाक़ात

इटली के डाक सेवा विभाग के कर्मचारियों से संत पापा की मुलाकात

इटली के डाक सेवा विभाग के 400 सदस्यों से मुलाकात करते संत पापा

10/02/2018 15:15

वाटिकन सिटी, शनिवार, 10 फरवरी 2018 (रेई): संत पापा फ्राँसिस ने शनिवार 10 फरवरी को वाटिकन स्थित क्लेमेंटीन सभागार में इटली के डाक सेवा विभाग के 400 सदस्यों से मुलाकात की।

संत पापा ने उन्हें सम्बोधित कर कहा, "इताली डाक सेवा, इटली के जीवन और इतिहास से अनन्य रूप से जुड़ा है। एक निश्चित अर्थ में, इससे परिवारों और दूर में रहने वालों को जोड़े रखने में मदद मिली है। हम जानते हैं कि हमारे समाज में संचार का कितना महत्व है और किस तरह भिन्न- भिन्न क्षेत्र सूचना एवं वस्तुओं के आदन-प्रदान द्वारा एक साथ आगे बढ़ते हैं। यह सीधे रूप से देश के आर्थिक विकास पर प्रभाव डालता है जो कुशल और गुणवत्तापूर्ण सेवाओं की मांग करता है।"

संत पापा ने कहा कि यही कारण है कि इटली में डाक सेवा के नवीनीकरण की आवश्यकता है क्योंकि पिछले कुछ दशकों से समाज एवं लोगों के जीवन के हर आयामों में भारी परिवर्तन आया है।

इताली डाक सेवा ने चुनौतियों का सामना करने के लिए भले ही दूरदर्शिता, विविधीकरण सेवा तथा भविष्य को ध्यान में रखते हुए नई तकनीकी का प्रयोग एवं अनुसंधान करने का प्रयास किया है। फिर भी सच्चा विकास तब तक संभव नहीं है जब तक कि प्रकृति के पुनर्जनन प्रक्रिया की क्षमता की अनदेखी की जाए, अथवा उसे हमारे आमघर की तरह न देखकर, सिर्फ एक गोदान की तरह उनके सभी संसाधनों का प्रयोग किया जाए।

उन्होंने कहा कि नवीनीकरण एवं पुनर्गठन के कार्य में सबसे महत्वपूर्ण है व्यापार रणनीति, अपनी असली पेशा के प्रति निष्ठा, नागरिकों की सेवा में समर्पण। बाजार तर्क का अनुसरण करते हुए इताली ने डाक सेवा को लाभ नहीं किन्तु लोगों के बीच रखा है यह याद करते हुए कि सभी सेवाएँ मूल्यों के बिना खाली हैं यदि वे केवल कुछ लोगों द्वारा प्रयोग किये जा सकें अथवा उनकी ठोस आवश्यकताओं की पूर्ति न कर सकें। 

संत पापा ने डाक सेवा विभाग के सभी कर्मचारियों से आग्रह किया कि चूंकि उन्हें हर दिन लोगों के समर्पक में रहना है। वे लोगों की आवश्यकताओं को समझें तथा उनके साथ तत्परता एवं परोपकार की भावना से पेश आयें ताकि ऐसा न हो कि वे ग्राहकों के लिए भार न बन जाएँ। इसके लिए उन्हें हर दिन अपने बात व्यवहार में दया भाव अपनाने की आवश्यकता है।

संत पापा ने कहा कि डाक सेवा विभाग में लोगों के प्रति चिंता का भाव रखना आवश्यक है किन्तु उन्हें अपने परिवारों की जिम्मेदारी को भी दरकिनार नहीं करना चाहिए क्योंकि इताली डाक काम के साथ-साथ परिवारों की भी चिंता करता एवं काम के प्रति पूर्ण सम्मान व्यक्त करता है। यह लाभ और दक्षता के विपरीत नहीं हैं, बल्कि उन्हें बढ़ाने में सहायक है।


(Usha Tirkey)

10/02/2018 15:15