Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

वाटिकन \ घटनायें

माता मरिया घर में हो तो शैतान अंदर प्रवेश नहीं कर सकता, संत पापा फ्राँसिस

संत पापा फ्राँसिस ने रविवार 28 जनवरी प्रातः रोम के संत मरिया मेजर महागिरजाघर में ख्रीस्तयाग अर्पित करते हुए - ANSA

29/01/2018 17:13

रोम, सोमवार 29 जनवरी 2018 (वीआर,रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने रविवार 28 जनवरी प्रातः रोम के संत मरिया मेजर महागिरजाघर में  "सलुस पॉपुली रोमानी" रोम वासियों की संरक्षिका माता मरियम की प्रतिमा को पुनः स्थापित करने के अवसर पर हजारों विशवासियों के साथ पवित्र मिस्सा समारोह के अनुष्ठान किया। वाटिकन संग्रहालय द्वारा इसकी मरम्मत किए जाने के बाद महागिरजाघर के ‘बोरगेसे प्रार्थनालय’ में अपने स्थान पर वापस लौटाया गया।

रोमवासी "सलुस पॉपुली रोमानी" माता मरिया की विशेष भक्ति करते हैं। संत पापा फ्राँसिस भी विश्षकर अपनी प्रेरितिक यात्रा के पहले और बाद में नियमित रुप से माता मरिया का दर्शन करने आते हैं। और प्रतिमा को फूलगुच्छा अर्पित करते हैं।

मरियम हमारी माता

संत पापा ने पवित्र युखारिस्त के दौरान अपना प्रवचन माता के रुप में मरिया पर केंद्रित करते हुए कहा, "माँ की मौजूदगी इस गिरजाघर को हम बच्चों लिए एक परिवार का घर बना देती है और गिरजाघर को इसलिए हम अपना घर कह सकते हैं क्योंकि यहाँ हमें आराम, सांत्वना, संरक्षण और शरण मिलता हैं।"

संत पापा ने कहा कि हमारे पूर्वजों ने हमें जीवन के कठिन समय में हमेशा माता मरियम की छत्रछाया में संरक्षण हेतु एकसाथ आने की शिक्षा दी है। माता मरिया हमारे विश्वास के बनाये रखने में हमारी मदद करती हैं, हमारे संबंधों की  रक्षा करती हैं, और हमें जावन के तूफानी मौसम से और हर बुराई से बचाती है।" जब मरिया हमारी माता घर में है, "शैतान घर में प्रवेश नहीं करता है।"

संत पापा ने कहा कि एक परंपरागत प्रार्थना में हम करते हैं, "हमारी प्रार्थनाओं को अस्वीकार मत कर, लेकिन दया से सुन और पूरा कर।"माता मरिया कभी भी हमारी प्रार्थनाओं को अनसुना नहीं कर सकती परंतु शीघ्र ही हमारी मदद हेतु चल पड़ती हैं जैसा कि हम सुसमाचार सुनते हैं - जैसे ही, मरियम ने एलिजबेद के बारे में सुना, वे तुरंत एलिजाबेथ के पास उनकी मदद करने हेतु चल पड़ी थी।

संत पापा ने कहा आइये हम प्रार्थना करें कि माता मरिया हमें हर खतरे से बचाये रखे। प्रभु यह जानते हैं कि हम जीवन में कई कठीनाईयों और परीक्षाओं का सामना करना पड़ता है और ऐसे समय में हमें सुरक्षा और माता के आश्रय में जाने की आवश्यकता होती है। इसी वजह से उन्होंने क्रूस पर से अपने प्यारे चेले योहन को और भविश्य में आने वासे सभी चेलों को अपनी प्यारी माता के सिपुर्द किया।

माता मरियम को अपने घर में रखें

संत पापा ने कहा कि माता मरियम को संत योहन के समान हम भी अपने साथ ले चलें। उन्हें अपने घर, अपने हृदय और अपने जीवन में आकर रहने के लिए आमंत्रित करें। हम ख्रीस्तीय माता मरियम से अपने को अलग नहीं कर सकते, अगर ऐसा करते हैं तो हम उसके बच्चे कहलाने की अपनी पहचान खो देंगे। अतः आइये हम माता मरियम को अपने साथ और हमारे घर में सदा रहने के लिए आमंत्रित करें।


(Margaret Sumita Minj)

29/01/2018 17:13