Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ विश्व की कलीसिया

विस्थापन को समर्पित राष्ट्रीय सप्ताह पर काथलिक धर्माध्यक्ष का संदेश

विस्थापन पर आधारित फिल्म देखता दर्शक - AFP

09/01/2018 17:00

वॉशिंगटॉन, मंगलवार, 9 जनवरी 2018 (रेई): अमरीका के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष ने 7-13 जनवरी के बीच राष्ट्रीय विस्थापन सप्ताह के लिए एक संदेश प्रकाशित किया है।

राष्ट्रीय विस्थापन सप्ताह का उद्घाटन रविवार 7 जनवरी को हुआ।

संदेश में धर्माध्यक्ष ने कहा है, "रविवार को समस्त अमरीका की काथलिक कलीसिया राष्ट्रीय विस्थापन सप्ताह का उद्घाटन करेगी। करीब 50 सालों से इस सप्ताह को विस्थापित कलीसिया एवं राष्ट्र के लिए प्रार्थना एवं चिंतन के अवसर के रूप में देखा जाता है। इन पाँच दशकों में विस्थापितों का चेहरा जरूर बदला है किन्तु उनका चेहरा यह प्रकट करता है कि उन्हें अमेरिकी अवसरों के महान आशीर्वाद को प्राप्त करने की लालसा है।"  

संत पापा फ्राँसिस ने 1 जनवरी 2018 विश्व शांति दिवस के लिए अपने संदेश में कहा था, कि यदि हम विस्थापितों एवं शरणार्थियों की स्थिति को हमारे विश्वास की प्रज्ञा से देखते हैं तो हम पायेंगे कि वे खाली हाथ नहीं आते। वे अपने साथ साहस, अपनी क्षमता, ऊर्जा एवं आकांक्षाओं को लेकर आते हैं। साथ ही साथ, वे अपनी संस्कृति की धरोहर को भी लेकर आते हैं। वे उन देशों को समृद्ध बनाते हैं जो उनका स्वागत करते।

अमरीकी काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष ने लिखा, "इस सप्ताह मैं सभी को निमंत्रण देता हूँ कि आप संत पापा के इन शब्दों पर तथा अपने परिवार के विस्थापन की कहानी पर चिंतन करें। कृपया आप परिवारों के लिए मेरी प्रार्थना में शामिल हों ताकि हम एक साथ बेहतर जीवन की ओर आगे बढ़ सकें।   

2018 का राष्ट्रीय विस्थापन सप्ताह 7-13 जनवरी तक रखा गया है जिसकी विषयवस्तु है, "कई यात्राएं, एक परिवार।"

राष्ट्रीय विस्थापन या पलायन सप्ताह हमारे समुदायों में प्रवासियों, और शरणार्थियों सहित मानव तस्करी के शिकार लोगों की मदद के बारे में जागरूकता बढ़ाने का अवसर प्रदान करता है।

दुनिया भर में 65 लाख से अधिक लोगों को अपने घर से जबरन विस्थापित कर दिया गया है तथा विश्व बढ़ते प्रवास से प्रभावित है। राष्ट्रीय विस्थापन सप्ताह काथलिक समुदायों को विस्थापन के बारे जानकारी देती तथा पल्ली, धर्मप्रांत और समुदायों में आप्रवासियों और शरणार्थियों से मुलाकात  करने हेतु एक साथ आने का अवसर देती है।


(Usha Tirkey)

09/01/2018 17:00