Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

विश्व की घटनायें \ विश्व

एशियान्यूज के संस्थापक फादर पियेरो गिड्डो का निधन

प्रतीकात्मक तस्वीर - EPA

23/12/2017 13:30

मिलान, शनिवार,23 दिसम्बर 2017 (एशियान्यूज) : विदेश मिशन हेतु पोंटिफिकल संस्था के मिश्नरी एशियान्यूज के संस्थापक फादर पियेरो गिड्डो का निधन 20 दिसम्बर को मिलान के निकट चेसानो बॉस्कोन में एम्ब्रोसियान नर्सिंग होम में हुआ। वे 89 वर्ष के थे और कुछ दिनों से बीमार थे।

अंतर्राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त, 'प्रिंट मीडिया के मिशनरी' के रूप में फादर गिडडो ने सुसमाचार फैलाने के लिए संचार की दुनिया में अपना पूरा जीवन समर्पित किया था। 1986 में उन्होंने एशियान्यूज की स्थापना की और इसमें अपना योगदान जारी रखा।

फादर गिड्डो का जन्म इटली के त्रोन्जानो वेरचेलेस्से में सन् 1929 में हुआ था। उन्होंने धर्मप्रांतीय सेमिनरी मोनक्रीवेल्लो में पढाई की। सन्1945 में कल संस्था के विदेश मिशन हेतु पोंटिफिकल संस्था में प्रवेश किया और 1953 में उनका पुरोहिताभिषेक हुआ। उनका सपना भारत में मिशनरी बनने का था परंतु अपने अभिषेक के बाद उन्हें हमेशा पत्रकारिता में काम करने के लिए कहा गया।

सन् 1959 से 1994 तक वे वैश्विक मुद्दों और कलीसिया निर्माण और विकास में ख्रीस्तीय योगदान के बारे में जानकारी देने वाली मासिक पत्रिका ‘मोन्दो ए मिस्योने’ (विश्व और मिशन) के संपादक थे।

1962 में, ‘ओसरवातोरे रोमानो’ के एक पत्रकार के रूप में, उन्हें संत पापा जॉन तेईसवें द्वारा ‘अद जेंतेस’ का प्रारुप तैयार करने हेतु एक विशेषज्ञ के रूप में चुना गया था। सन्1990 के दशक में, संत पापा जॉन पॉल द्वितीय ने उसे प्रेरितिक विश्वपत्र ‘रेडेम्टोरिस मिसिओ’ के लेखक के रूप में चुना।

1994 से 2010 तक वह रोम में पीइएएम ऐतिहासिक अभिलेखागार के निदेशक थे, दुनिया में पीईएएम मिशन के कई इतिहास प्रकाशित करते थे, साथ ही संस्थान के कुछ सदस्यों की आत्मकथाएं भी प्रकाशित करते थे।

फादर गिड्डो ने नब्बे किताबें लिखीं, जिनमें से तीस का अनुवाद किया गया। उन्हें कई पत्रकार पुरस्कार से नवाजा गया।

2014 में, बीमार फादर गेडडो को निरंतर चिकित्सा देखभाल की आवश्यकता थी इस कारण से, वे मिलान के  प्रांत के चेसानो बॉस्कोनो में एम्ब्रोसियाना नर्सिंग होम में चले गए। यहां भी उन्होंने अंत तक काम किया और मिशन के बारे में विचार और आत्मचिंतन भेजा।


(Margaret Sumita Minj)

23/12/2017 13:30