Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

संत पापा फ्राँसिस \ मुलाक़ात

संत पापा ने लुथेरन वॉर्ड फेडेरेशन के नये अध्यक्ष से मुलाकात की

- ANSA

07/12/2017 17:00

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 7 दिसम्बर 2017 (रेई): संत पापा फ्राँसिस ने बृहस्पतिवार को लुथेरन वॉर्ड फेडेरेशन के नये अध्यक्ष नाईजेरिया के महाधर्माध्यक्ष मूसा पानती फिलिबुस से मुलाकात की तथा ख्रीस्तीय एकता हेतु आम प्रार्थना को कुँजी कहा।

सुधार की पाँचवीं शत् वर्षीय जयन्ती मनाने हेतु विगत वर्ष स्वीटेन के लूंड एवं मालमो शहरों में अपनी यात्रा की याद कर संत पापा ने कहा कि एक साथ प्रार्थना करना- शुद्ध करता, सुदृढ़ बनाता एवं आगे हमारा मार्ग प्रशस्त करता है। प्रार्थना ख्रीस्तीय एकता की हमारी यात्रा को ईंधन प्रदान करता है।

संत पापा ने कहा कि प्रार्थना के द्वारा हम पिछली शताब्दियों के दुःखद विभाजन को नये प्रकाश में देख सकते हैं, पूर्वाग्रहों को त्याग सकते, हमारी यादों को शुद्ध कर सकते एवं भविष्य को साहस के साथ देख सकते हैं। प्रार्थना के द्वारा हम विभिन्न परम्पराओं के वरदानों को पहचानने के लिए प्रेरित होते हैं तथा उन्हें साझा ख्रीस्तीय धरोहर के रूप में ग्रहण कर सकते हैं।

महाधर्माध्यक्ष मूसा को दिये अपने संदेश में संत पापा ने तनाव से एकता की ओर 50 सालों की प्रगति के लिए धन्यवाद दिया तथा सुधार बरसी की यादगारी मनाने के लिए एक साथ प्रार्थना के महत्व को स्वीकार किया।

उन्होंने कहा, "लूंड में सुधार की यादगारी को संयुक्त रूप से मनाने के अवसर पर वहाँ उनकी उपस्थिति एवं सहभागिता अत्यन्त मूल्यवान था जिसने एक महत्वपूर्ण मोड़ को रेखांकित किया जिसमें काथलिक एवं लूथेरन आज हैं।"  

मुलाकात के दौरान "हे पिता हमारे" प्रार्थना के पूर्व संत पापा ने लूथेरन प्रतिनिधि से आग्रह किया कि वे पूर्ण एकता के रास्ते पर आगे बढ़ते रहें, थकन, आलस्य अथवा भय के प्रलोभन को कभी प्रवेश करवाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 7 दिसम्बर 2017 (रेई): संत पापा फ्राँसिस ने बृहस्पतिवार को लुथेरन वॉर्ड फेडेरेशन के नये अध्यक्ष नाईजेरिया के महाधर्माध्यक्ष मूसा पानती फिलिबुस से मुलाकात की तथा ख्रीस्तीय एकता हेतु आम प्रार्थना को कुँजी कहा।

सुधार की पाँचवीं शत् वर्षीय जयन्ती मनाने हेतु विगत वर्ष स्वीटेन के लूंड एवं मालमो शहरों में अपनी यात्रा की याद कर संत पापा ने कहा कि एक साथ प्रार्थना करना- शुद्ध करता, सुदृढ़ बनाता एवं आगे हमारा मार्ग प्रशस्त करता है। प्रार्थना ख्रीस्तीय एकता की हमारी यात्रा को ईंधन प्रदान करता है।

संत पापा ने कहा कि प्रार्थना के द्वारा हम पिछली शताब्दियों के दुःखद विभाजन को नये प्रकाश में देख सकते हैं, पूर्वाग्रहों को त्याग सकते, हमारी यादों को शुद्ध कर सकते एवं भविष्य को साहस के साथ देख सकते हैं। प्रार्थना के द्वारा हम विभिन्न परम्पराओं के वरदानों को पहचानने के लिए प्रेरित होते हैं तथा उन्हें साझा ख्रीस्तीय धरोहर के रूप में ग्रहण कर सकते हैं।

महाधर्माध्यक्ष मूसा को दिये अपने संदेश में संत पापा ने तनाव से एकता की ओर 50 सालों की प्रगति के लिए धन्यवाद दिया तथा सुधार बरसी की यादगारी मनाने के लिए एक साथ प्रार्थना के महत्व को स्वीकार किया।

उन्होंने कहा, "लूंड में सुधार की यादगारी को संयुक्त रूप से मनाने के अवसर पर वहाँ उनकी उपस्थिति एवं सहभागिता अत्यन्त मूल्यवान था जिसने एक महत्वपूर्ण मोड़ को रेखांकित किया जिसमें काथलिक एवं लूथेरन आज हैं।"  

मुलाकात के दौरान "हे पिता हमारे" प्रार्थना के पूर्व संत पापा ने लूथेरन प्रतिनिधि से आग्रह किया कि वे पूर्ण एकता के रास्ते पर आगे बढ़ते रहें, थकन, आलस्य अथवा भय के प्रलोभन को कभी प्रवेश करने न दें। उन्होंने कहा कि अच्छे विचार काफी नहीं है बल्कि हमें ठोस कदम लेना चाहिए तथा एक-दूसरे के साथ हाथ में हाथ मिलाकर, ग़रीबों एवं सबसे जरूरतमंद लोगों की मदद करनी है इस तरह हम अपने विश्व में ईश्वर की उपस्थिति का साक्ष्य दे पायेंगे।ने न दें। उन्होंने कहा कि अच्छे विचार काफी नहीं है बल्कि हमें ठोस कदम लेना चाहिए तथा एक-दूसरे के साथ हाथ में हाथ मिलाकर, ग़रीबों एवं सबसे जरूरतमंद लोगों की मदद करनी है इस तरह हम अपने विश्व में ईश्वर की उपस्थिति का साक्ष्य दे पायेंगे।


(Usha Tirkey)

07/12/2017 17:00