Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

संत पापा फ्राँसिस \ मुलाक़ात

संत पापा ने फिलिस्तीनी प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की

संत पापा फ्राँसिस ने अंतरधार्मिक वार्ता के लिए आये हुए फिलिस्तीनी प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की। - EPA

06/12/2017 15:40

वाटिकन सिटी, बुधवार, 6 दिसम्बर 2017 (रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने बुधवार को वाटिकन के संत पौल छठे सभागार में अंतरधार्मिक वार्ता के लिए आये हुए फिलिस्तीनी प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की। जिसका आयोजन अंतरधार्मिक वार्ता हेतु बनी परमधर्मपीठीय समिति ने की है।

संत पापा फ्राँसिस ने वाटिकन में उनका तहे दिल से स्वागत कर कहा, ″आप सब यहाँ वाटिकन में अंतरधार्मिक वार्ता हेतु बनी परमधर्मपीठीय समिति और अंतरधार्मिक वार्ता के लिए बनी फिलीस्तीनी आयोग के बीच वार्ता के लिए स्थायी कार्यदल बनाने के तरीकों पर कार्य करने आए हैं।″

काथलिक कलीसिया के लिए समुदायों, व्यक्तियों और संगठनों के साथ वार्ता के पुलों को बनाने में हमेशा खुशी होती है। फिलिस्तीनी धार्मिक और बुद्धिजीवी नेताओं के साथ वार्ता करना निश्चित रूप से हमें विशेष खुशी देती है।

 हम ख्रीस्तीयों के लिए पवित्र भूमि वह है जहाँ ईश्वर और मानव जाति के बीच वार्ता हुई। उस वार्ता का चरम-बिंदू नाजरेथ में गाब्रिएल दूत और कुवारी मरियम के बीच हुई थी। इस घटना का जिक्र कुरान भी करता है।

यह वार्ता एक अनोखी तरीके से येसु और सारी मानवता का प्रतिनिधित्व करने वाले उसके लोगों के बीच जारी है।

दरअसल, येसु ईश्वर का वचन है और पुरुषों और महिलाओं के साथ बातचीत को एक मुस्लिम व्याख्याता ने "मानवता के साथ ईश्वर की वार्ता" कहा है।

वार्ता हर स्तर पर होती है: खुद से आत्मचिंतन और प्रार्थना में, हमारे परिवारों में, हमारे धार्मिक समुदायों में, विभिन्न धार्मिक समुदायों के बीच और नागरिक समाज में वार्ताएँ होती हैं। संवाद की प्राथमिक शर्त है पारस्परिक सम्मान। सामूहिक भलाई हेतु वार्ता पारस्परिक ज्ञान, पारस्परिक सम्मान और सहयोग का महत्वपूर्ण स्रोत है।

संत पापा ने अपनी आशा प्रकट करते हुए कहा,″ मुझे आशा है कि आपके परामर्श से ख्रीस्तीय समुदाय और फिलीस्तीनी समाज के सभी सदस्यों के लाभ के लिए ईमानदारी से वार्ता को स्थान मिल सके विशेष रूप से प्रवास के संबंध में अल्पसंख्यों को चुनौतियों का सामना करना पड़ता है।

      संत पापा ने फिलिस्तीन अधिकारियों के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा, मैं फिलिस्तीन राज्य के अधिकारियों विशेष कर राष्ट्रपति मोहम्मद अब्बास की उदारता के प्रति आभारी हूँ जिन्होंने फिलिस्तीनी समाज में ख्रीस्तीय समुदाय की अपनी जगह और अपनी भूमिका को स्वीकार करते हुए दिखाया है ।

      अंत में संत पापा ने पवित्र भूमि, फिलिस्तीन वासियों, काथलिक कलीसिया पर ईश्वर की शांति और देश में समृद्धि की कामना करते हुए शुभकामनायें दी।


(Margaret Sumita Minj)

06/12/2017 15:40