Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

विश्व की घटनायें \ एशिया

सन्त पापा ने स्वीकार किया म्यानमार के प्रथम राजदूत का प्रत्यय पत्र

म्यानमार के प्रथम राजदीत सान ल्विन का प्रत्यय पत्र स्वीकार करते हुए सन्त पापा फ्राँसिस, 09.11.2017 - AP

10/11/2017 09:11

वाटिकन सिटी, शुक्रवार,10 नवम्बर 2017 (रेई, वाटिकन रेडियो): सन्त पापा फ्राँसिस ने, गुरुवार को वाटिकन में, परमधर्मपीठ के लिये म्यानमार के प्रथम राजदूत श्री सान एल विन का प्रत्यय पत्र स्वीकार किया।

वाटिकन प्रेस ने इस विषय में एक विज्ञप्ति जारी कर बताया कि म्यानमार के साथ कूटनैतिक सम्बन्ध स्थापित करने का निर्णय, इस वर्ष 04 मई को, सन्त पापा फ्राँसिस के साथ, म्यानमार गणतंत्र की परामर्शदाता एवं म्यानमार के विदेशी मामलों की केन्द्रीय मंत्री, श्रीमती आऊन सान सूकी की मुलाकात के अवसर पर लिया गया था।

म्यानमार की पाँच करोड़ दस लाख की आबादी में लगभग एक प्रतिशत जनता काथलिक धर्मानुयायी है। विगत पाँच शताब्दियों से काथलिक कलीसिया म्यानमार में समाज कल्याण सेवा में क्रियाशील रही है।

परमधर्मपीठ के लिये म्यानमार के प्रथम राजदूत श्री सान एल विन का जन्म 20 दिसम्बर सन् 1955 ई. को हुआ था। आपने प्राद्यौगिक रसायन शास्त्र में स्नातक की उपाधि हासिल की है। इससे पूर्व श्री सान एल विन चीन, सिंगापुर एवं न्यू यॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र संघीय कार्यालय में म्यानमार के प्रतिनिधि तथा ऑस्ट्रिया और लिथुआनिया में म्यानमार के राजदूत रूप में सेवाएँ अर्पित कर चुके हैं। 


(Juliet Genevive Christopher)

10/11/2017 09:11