Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ एशिया की कलीसिया

फिलीपींस में राष्ट्रीय युवा दिवस का उद्घाटन

प्रतीकात्मक तस्वीर - AP

07/11/2017 15:43

जामबोवांगा सिटी, मंगलवार, 7 नवम्बर 2017 (मैटर्स इंडिया): दक्षिणी फिलीपीन्स के जामबोवांगा शहर में पाँच दिवसीय राष्ट्रीय युवा दिवस का उद्घाटन 6 नवम्बर को भव्य समारोह के साथ हुआ जो 10 नवम्बर तक चलेगा।

जामबोवांगा के महाधर्माध्यक्ष रोमूलो देला क्रूज़ ने बतलाया कि राष्ट्रीय युवा दिवस में भाग लेने हेतु करीब 2,342 से अधिक युवा देश भर से एकत्रित हैं तथा इसमें मेजबान धर्मप्रांत के कुल 175 युवा भाग ले रहे हैं।

उन्होंने कहा कि सभी प्रतिभागी युवा है तथा उनकी उम्र 13 से 39 के बीच है। राष्ट्रीय युवा दिवस के दौरान प्रतिभागी, सामाजिक मामलों, खासकर, सामाजिक संचार, मानव तस्करी जैसे मुद्दों पर विचार करेंगे तथा सामाजिक हिमायत, कला एवं सांस्कृतिक गौरव को बढ़ावा देने और उसे संबंधित विषयों पर चर्चा करेंगे।

जामबोवांगा शहर में पाँच दिवसीय राष्ट्रीय युवा दिवस की विषयवस्तु है, ″सर्वशक्तिमान ने मेरे लिए महान कार्य किये हैं, पवित्र है उनका नाम।″(लूक. 1:49).”

मिनदनाओं में राष्ट्रीय युवा दिवस 11 सालों के बाद आयोजित किया गया है इसके पूर्व 2006 में यह दावाओं शहर में सम्पन्न हुआ था।

स्थानीय महापौर मरिया इसाबेले ने कहा कि यह युवाओं के लिए युवा प्रेरिताई की सकारात्मक अभिव्यक्ति एवं युवाओं के बीच ख्रीस्त के मिशन को अपनाने की चाह उत्पन्न करने का सुन्दर अवसर है।

महाधर्माध्यक्ष देला क्रूज़ ने कहा, ″मेरी आशा है कि युवा दिवस विभिन्न जगहों के युवाओं को एक दूसरे से मुलाकात करने का अवसर प्रदान करेगा ताकि वे जागरूक हो सकें तथा कलीसिया एवं विश्व से कह सकें कि हमारे युवा कितने सुन्दर, मूल्यवान एवं महत्वपूर्ण हैं। युवा इस अभिलाषा से सभा में भाग ले रहे हैं ताकि वे ईश्वर को अधिक अच्छी तरह जान सकें तथा उनके साथ संबंध को एक-दूसरे को बांटने के लिए तीर्थयात्री बन सकें।" 

राष्ट्रीय युवा दिवस का आयोजन फिलीपींस के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के युवा प्रेरिताई विभाग ने किया है।

21 वर्षीय युवा प्रतिभागी जोसुवा जॉन पी. जामोलिन ने कहा, ″राष्ट्रीय युवा दिवस युवाओं के विश्वास को सुदृढ़ करने का एक अवसर है ताकि वे समाज के एक जिम्मेदार व्यक्ति की तरह बढ़ सकें एवं अधिक प्रतिबद्धता के साथ समाज तथा कलीसिया की सेवा में अपने को समर्पित कर सकें।″


(Usha Tirkey)

07/11/2017 15:43