Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

महत्त्वपूर्ण लेख \ मानवाधिकार

पाकिस्तान की पुलिस पर ख्रीस्तीय छात्र की हत्या का आरोप

पाकिस्तानी पुलिस कमान्डोज़, तस्वीर, 09.10.2017 - AP

13/10/2017 12:26

शेखपुरा, शुक्रवार, 13 अक्टूबर 2017 (फीदेस समाचार): पाकिस्तान के पंजाब प्रान्त के शेखपुरा ज़िले के झुबरन गाँव में एक 17 वर्षीय ख्रीस्तीय छात्र अरसलम मसीह को पुलिस ने यातनाएँ देकर मार डाला है। वह आठवीं कक्षा का छात्र था।

अरसलम मसीह के मामले पर काम करनेवाले ईसाई वकील सरदार मुशताक गिल ने फीदेस समाचार को बताया कि छात्र के परिवार सदस्यों ने हत्या की शिकायत की है किन्तु पुलिस के खिलाफ़ तथ्यों का पूरी तरह से पता लगाना कठिन प्रतीत हो रहा है।

अरसलम के परिजनों के अनुसार विगत दिनों अरसलम एवं एक पुलिस वाले के बेटे के बीच झगड़ा हुआ था जिसके बाद छ- पुलिसवालों का एक दल अरसलम के स्कूल पहुँचा और उसकी इतनी पिटाई की कि अरसलम की मौत हो गई। एक और गवाह का कहना है कि पुलिस के कहने पर अरसलम नहीं रुका इसलिये उन्होंने उसका पीछा किया और उसकी बर्बर हत्या कर दी।

वकील गिल ने बताया कि छात्र को बदनाम करने के लिये पुलिस ने यहाँ तक कह डाला कि अरसलम ने उसके बेटे का यौन शोषण किया था जबकि यह आरोप मनगढ़न्त एवं निराधार है। 

  अरसलम के लिये न्याय की मांग करते हुए वकील सरदार मुशताक गिल ने फीदेस समाचार से कहा, "पंजाब पुलिस के इस कृत्य की वे निन्दा करते हैं जो समाज के कमज़ोर वर्ग के ख्रीस्तीयों की हत्या करते हैं तथा उन्हें प्रताड़ित करते हैं, सिर्फ इसलिये कि ख्रीस्तीय लोग पुलिस के खिलाफ़ कुछ भी कहने या करने से डरते हैं।"


(Juliet Genevive Christopher)

13/10/2017 12:26