Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ विश्व की कलीसिया

भारत के फादर टोम उजहून्नालिल हुए रिहा

फादर टोम उजहून्नालिल - EPA

12/09/2017 17:18

मुस्कात, मंगलवार, 12 सितम्बर 2017 (मनोरमा): यमन से अपहृत भारत के सलेशियन फादर टोम उजहून्नालिल मुक्त किये गये।

भारतीय काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के महासचिव धर्माध्यक्ष थेओदोर मसकरेनहास ने 12 सितम्बर को एक प्रेस विज्ञाप्ति जारी कर इस बात की पुष्टि दी।

उन्होंने विज्ञाप्ति में लिखा, ″भारतीय काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन, फादर टोम उजहून्नालिल एस.डी वी के मुक्त किये जाने की खबर सुन अत्यन्त खुश है जो मार्च 2016 से बंदी थे। फा. टोम, उसके परिवार, सलेशियन धर्मसमाज तथा भारत की काथलिक कलीसिया पर ईश्वर की इस विशेष कृपा के लिए धन्यवाद देते हुए, हम उनके अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना करते हैं तथा अपने धर्मसमाज एवं कलीसिया के माध्यम से ईश्वर एवं उनकी प्रजा की सेवा में पुनः योगदान देने हेतु उनके पूर्ण स्वास्थ्यलाभ की कामना करते हैं।″     

टाईम्स ऑफ ओमन के रिपोर्ट अनुसार, ओमन के ″सुल्तान कबूस बिन के शाही आदेश के उत्तर में तथा वाटिकन के आग्रह पर वाटिकन के एक कर्मचारी के बचाव हेतु सुलतान के अधिकार क्षेत्र के अधिकारियों ने, ओमन के अधिकारियों के सहयोग से, वाटिकन के कर्मचारी को पा लिया है। उन्हें अपना घर वापस लौटाने के लिए आज प्रातः उन्हें मुस्कात भेज दिया गया है।″

रिपोर्ट में कहा गया कि फादर टोम ने ईश्वर को धन्यवाद दिया तथा महामहिम सुल्तान कबूस बिन के प्रति कृतज्ञता व्यक्त की एवं उनके अच्छे स्वास्थ्य की कामना की। उन्होंने उन सभी भाई, बहनों, रिश्तेदारों एवं मित्रों के प्रति आभार प्रकट किया है जिन्होंने उनकी सुरक्षा एवं रिहाई के लिए प्रार्थना की है।

रिपोर्ट में बतलाया गया है कि फादर टोम शारीरिक रूप से अत्यन्त दुर्बल हो गये हैं तथा अपने स्वास्थ्य में सुधार लाने हेतु मदद की अपील की है।

फादर टोम उजहून्नलिल जो केरल के कोट्टायम से आते हैं, यमन स्थित मिशनरीस ऑफ चैरिटी की धर्मबहनों द्वारा संचालित वृद्धाश्रम से आतंकियों द्वारा उस समय अपहृत हुए थे जब वे वहाँ ख्रीस्तयाग अर्पित करने गये हुए थे।


(Usha Tirkey)

12/09/2017 17:18