Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ एशिया की कलीसिया

म्यांमार की कलीसिया संत पापा के स्वागत हेतु तैयारी में

- AP

06/09/2017 17:31

वाटिकन रेडियो, बुधवार, 06 सितम्बर 2017 (वीआर): देश में तनाव और हिंसा के बावजूद म्यांमार की छोटी कलीसिया संत पापा फ्रांसिस की अगवानी हेतु तैयारी में लगी है।

“म्यांमार के ख्रीस्तीय संत पापा के स्वागत हेतु गर्मजोशी से तैयारी में लगे हैं।” उक्त बातें पिया के धर्माध्यक्ष अलेक्सजेंडर पियोन चों ने कही। उन्होंने कहा, “हमारा छोटा समुदाय जो प्रार्थना और कलीसियाई जीवन के प्रति समर्पित है, इन दिनों उल्लासित है।”  

वाटिकन से साथ म्यांमार के राजनायिक संबंध की स्थापना म्यांमार के विदेश मंत्री ऑंन्ग सैन सू के द्वारा संत पापा फ्रांसिस से एक व्यक्तिगत मुलाकात के उपरान्त हुई। इस मुलाकात के उपरान्त संत पापा ने महाधर्माध्यक्ष पौल तीसंग इन-नाम को म्यांमार में प्रेरिताई कार्य हेतु प्रतिनिधि नियुक्त किया।

योंगोंन के महाधर्मप्रांत के धर्माध्यक्ष चार्ल्स माऊंग बो ने बतलाया कि म्यांमार की आबादी 51.4 लाख है जिसमें अधिकतर लोग बौद्ध धर्म के अनुयायी हैं। देश में काथलिकों की संख्या मात्र 7 लाख है, यद्यपि काथलिकों अल्पसंख्यक हैं स्थानीय कलीसिया संत पापा की म्यांमार यात्रा के बारे में सुन कर आनंदित है।

धर्माध्यक्ष चो ने बतलाया कि संत पापा अपनी म्यांमार की यात्रा के दौरान योंगोंन और ना पीई ताऊ का दौरान करेंगे। हाल में हुए हिंसक घटनाओं को लेकर उन्होंने कहा कि संत पापा जिन स्थानों का दौरान करेंगे वे शांतिमय क्षेत्र हैं और इसलिए सुरक्षा की दृष्टिकोण से हमें भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है।

25 अगस्त को हुई हिंसा के बारे में उन्होंने कहा कि हिंसा का संबंध धार्मिक नहीं है वरन आर्थिक कारण है जहाँ शास्त्र बंद मुस्लिम समुदाय के लोग एक संसाधन के संपन्न भूभाग को अपने अधिकार में करने हेतु प्रयासरत हैं जो कि मूल निवासियों के अधिकार में आता है।

विदित हो कि 28 अगस्त को वाटिकन प्रेस ने इस बात की घोषणा की कि संत पापा फ्रांसिस इस साल के अंत में 27 से 30 नवम्बर तक म्यांमार की और 30 नवम्बर से 02 दिसम्बर तक बँगला देश की प्रेरितिक यात्रा करेंगे।


(Usha Tirkey)

06/09/2017 17:31