Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ भारत की कलीसिया

भाजपा को बेकार बयानबाजी में नहीं लगना चाहिए: गोवा के कलीसियाई अधिकारी

बैंगलोर में भाजपा रैली, 12.08.2017 - AFP

01/09/2017 12:40

पणजी, शुक्रवार, 1 सितम्बर 2017 (ऊका समाचार): गोवा के एक कलीसियाई अधिकारी ने बुधवार को भाजपा प्रवक्ता के उन आरोपों को खारिज कर दिया है जिनमें कहा गया था कि कलीसिया ने पूर्व-चुनाव माहौल के ध्रुवीकरण की कोशिश की थी।

कलीसियाई अधिकारी ने सरकार से यह भी आग्रह किया कि वह धार्मिक संस्था के विरुद्ध खोखले आरोप नहीं लगाये।

विश्वव्यापी काथलिक उदारता संगठन कारितास की गोवा शाखा के निर्देशक मेवरिक फरनानडेज़ ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी को कलीसिया की तथ्य-शोध रिपोर्ट स्पष्ट खण्डन के साथ बाहर आना चाहिये जिसमें यह दावा किया गया था कि कलीसियाई आराधना स्थलों पर सिलसिलेवार आक्रमण पर पुलिस द्वारा की गई जाँच केवल एक दिखावा और ढोंग था।

फरनानडेज़ ने कहा, "हमारी रिपोर्ट विशलेषण के आधार पर, जमीनी स्तर के लोगों के साथ साक्षात्कारों के आधार पर तथा बहुत अध्ययन के बाद, पेशेवर तरीके से तैयार की गई थी। ध्रुवीकरण के खोखले बयान समझ-बूझ के साथ तैयार की गई रिपोर्ट को गौण बना सकते हैं।"

भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता नीलेश काबराल ने 27 अगस्त को गोवा चर्च की आधिकारिक पत्रिका और चर्च समर्थित ग़ैरसरकारी संस्था की तथ्य-शोध रिपोर्ट पर आरोप लगाया था कि कलीसिया 23 अगस्त को होनेवाले चुनाव से पहले वातावरण को बिगाड़ने की कोशिश कर रही थी। 

कलीसिया के प्रवक्ता फरनानडेज़ ने कहा, "जो लोग कलीसिया पर आरोप लगाते हैं उन्हें तर्कसंगत रूप से तथ्य शोध रिपोर्ट के उन बिन्दुओं का खुलकर खण्डन करना चाहिये जिनसे वे सहमत नहीं है, खोखली बयानबाजी में नहीं लगना चाहिये।"


(Juliet Genevive Christopher)

01/09/2017 12:40