Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ भारत की कलीसिया

भाजपा नेता का दावा, केरल का महागिरजाघर एक शिव मंदिर

प्रतीकात्मक तस्वीर - REUTERS

30/08/2017 15:43

तिरुवनंतपुरम, बुधवार, 30 अगस्त 2017 (ऊकान): भाजपा नेता  टी.जी. मोहनदास ने दावा किया है कि अलापुज़हा जिले के आर्थुंकल में संत एंड्रयू महागिरजाघर पहले शिव मंदिर था और हिंदुओं को इसे पुनः प्राप्त करना चाहिए।

मूल रूप से 16वीं शताब्दी में पोर्तुगीज मिशनरियों द्वारा निर्मित, आर्थुंकल महागिरजाघर, केरल में सबसे महत्वपूर्ण काथलिक तीर्थस्थलों में से एक है जहाँ राज्य भर से श्रद्धालु संत सेबेस्टियन पर्व के अवसर पर दो सप्ताह के भव्य समारोह में भाग लेने जनवरी माह में यहाँ आते हैं।

यहाँ के लोग संत सेबास्तियन को अपना संरक्षक संत मानते हैं।

डेक्कन क्रॉनिकल की रिपोर्ट अनुसार मोहनदास के इस दावे से न केवल केरल में ख्रीस्तीयों के बीच परेशानी उत्पन्न हुई है, बल्कि भाजपा नेताओं की बेचैनी भी बढ़ी है जो ईसाई समूहों को अपनी ओर लुभाने का प्रयास कर रहे हैं।

मोहनदास, जो आरएसएस प्रचारक हैं उन्होंने 26 अगस्त को ट्वीट किया था कि यदि गिरजाघर में खुदाई की जाती है तो मंदिर के अवशेष पाए जा सकते हैं।

उन्होंने लिखा था, ″गिरजाघर की वेदी निर्माण के दौरान वह बार-बार गिर जाती थी जिसके कारण पुरोहितों ने एक ज्योतिषी से संपर्क किया, जिन्होंने इसे मंदिर के मूल पवित्र स्थान से थोड़ा हटकर वेदी बनाने की सलाह दी। यह प्रत्येक हिन्दू की जिम्मेदारी है कि इस मंदिर को पुनः प्राप्त करने हेतु दावा करे।″

भाजपा नेताओं ने एक अनुचित विवाद को बढ़ावा देने के लिए उसकी आलोचना की है। राज्य के पूर्व भाजपा अध्यक्ष ने कहा, "यह उसकी निजी राय है और भाजपा का इसके साथ कुछ भी नहीं है। इस मुद्दे पर किसी भी दल के मंच पर कभी चर्चा नहीं हुई है। वह मूर्खों के देश में जी रहा है।"

एक अन्य पूर्व भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मोहनदास जैसे लोग पार्टी को शर्मिंदा कर रहे थे। उन्होंने कहा, "मोहनदास पार्टी का आधिकारिक प्रवक्ता नहीं है।"

आलप्पुज़ा पुलिस के प्रमुख एस सुरेंद्रन के निर्देशन पर मारीरिकुलम पुलिस, ने मोहनदास के खिलाफ सांप्रदायिक तनाव को उकसाने का आरोप लगाते हुए केस दर्ज किया है।

ए आई वाई एफ जिला सचिव टी टी जिसमोन ने सुरेंद्र को एक शिकायत दर्ज करायी थी तथा चेरथाला एस पी से मांग की थी कि सीआरपीसी 153 (ए) के तहत सांप्रदायिक घृणा की भावना फैलाने के लिए केस दर्ज कराये एवं अर्थुंकल महागिरजाघर जो केरल के रोमन काथलिक महागिरजाघरों में तीसरा बड़ा महागिरजाघर है उसकी सुरक्षा का आदेश दे।


(Usha Tirkey)

30/08/2017 15:43