Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ विश्व की कलीसिया

चेस्तोकोवा की माता मरियम के 300 साल, संत पापा का विडियो संदेश

चेस्तोकोवा मरियम तीर्थस्थल - EPA

26/08/2017 15:45

वाटिकन सिटी, शनिवार, 26 अगस्त 2017 (रेई): संत पापा फ्राँसिस ने शनिवार 26 अगस्त को पोलैंड के चेस्तोकोवा स्थित जसना गोरा मरियम तीर्थ पर एकत्रित तीर्थयात्रियों को विडियो संदेश के माध्यम से शुभकामनाएँ अर्पित की जो इसकी स्थापना की 300वीं वर्षगाँठ के अवसर पर तीर्थयात्रा में भाग ले रहे हैं।  

संत पापा ने कहा, ″मैं अत्यन्त स्नेह से आप सभी का अभिवादन करता हूँ, विशेषकर, हमारे धर्माध्यक्ष भाइयों एवं पुरोहितों के साथ जिन्होंने आज यहाँ तक पहुँचने हेतु अथक प्रयास किया है।″  

उन्होंने चेस्तोकोवा को पोलैंड का ममतामय हृदय कहा क्योंकि चेस्तोकोवा पोलैंड के हृदय के समान है जहाँ माता मरियम का तीर्थस्थल है और जहाँ लोगों ने अपना सम्पूर्ण भूत, वर्तमान, भविष्य एवं आनन्द और दुःख समर्पित किया है।

संत पापा ने अपने विडियो संदेश में, गत साल पोलैंड में अपनी प्रेरितक यात्रा की याद की जहाँ उन्होंने माता मरियम का दर्शन किया था। उन्होंने कहा, ″मैं उन क्षणों की स्मृति को जीवित रखता और उसके लिए आभारी रहता हूं, जो माता की कृपादृष्टि में पोलैंड की बपतिस्मा की 1050वीं वर्षगांठ को मनाने के लिए तीर्थयात्रियों के आने का आनन्द है।″

संत पापा ने जयन्ती वर्ष को एक बड़ा अवसर मानते हुए याद किया कि तीन सौ वर्षों पहले संत पापा ने जसना गोरा की माता मरियम को रानी के रूप में सम्मानित किया था। उन्होंने कहा, ″माता मरियम को रानी के रूप में स्वीकार करना एक महान सम्मान का चिन्ह है जो दूतों और संतों की महारानी है और जो स्वर्ग में महिमा के साथ राज करती है किन्तु यह जानकर अधिक खुशी होती है कि एक महारानी आप सभी की माता है।″ संत पापा ने कहा कि माता मरियम दूर रहने वाली रानी नहीं है जो राजगद्दी पर बैठती बल्कि वह अपने पुत्र का आलिंगन करती और उनके साथ हम सभी को अपनाती है। वे एक सच्ची माता हैं जो दुःख सहती हैं क्योंकि वे हमारे जीवन की समस्याओं में हमारी चिंता करती हैं। वे सबके नजदीक रहने वाली माता हैं जो हमें कभी नहीं भूलतीं, वे एक कोमल माता हैं तथा हमारे दैनिक जीवन की यात्रा में हमारा हाथ पकड़कर चलती हैं।   

संत पापा ने तीर्थयात्रियों को सम्बोधित कर कहा कि जब वे जयन्ती वर्ष मना रहे हैं यही अनुभव करने की आशा उन्हें है। उन्होंने कहा कि यह एक अच्छा अवसर है जब हम अनुभव कर सकते हैं कि इस दुनिया में हम में से कोई अनाथ नहीं है क्योंकि माता रानी हम प्रत्येक के करीब रहती हैं। वे हमें जानती हैं तथा अपनी ममता के साथ हमारा साथ देती है, किन्तु दूसरी ओर वे दृढ़ और साहसी भी हैं वे हमेशा अच्छाई पर बनी रहती हैं बुराई का सामना धीरज से करती और एकता को वे हमेशा बढ़ावा देती हैं।

संत पापा ने माता मरियम की मध्यस्थता से प्रार्थना की कि वे आनन्द की कृपा के लिए प्रार्थना करें ताकि सभी एक परिवार की तरह माता के चारों ओर एकत्रित हो सकें। इस तरह पोलैंड का संत पेत्रुस के उत्ताधिकारी के साथ कलीसियाई एकता का संबंध सुदृढ़ हो।

संत पापा ने अपने विडियो संदेश में सभी तीर्थयात्रियों को प्रेरितिक आशीर्वाद दिया।


(Usha Tirkey)

26/08/2017 15:45