Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ विश्व की कलीसिया

वाटिकन एवं रूस वीजा मुक्त राजनयिक यात्रा पर सहमत

रूसी विदेश मंत्री के साथ वाटिकन राज्य सचिव कार्डिनल पीयेत्रो परोलिन - AP

23/08/2017 15:42

वाटिकन सिटी, बुधवार, 23 अगस्त 2017 (वीआर अंग्रेजी): वाटिकन राज्य सचिव कार्डिनल पीयेत्रो परोलिन ने रूस की अपनी तीन दिवसीय यात्रा में मंगलवार को रूस के विदेश मंत्री सरगेई लावरोव से मुलाकात कर, कई अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर बातचीत की एवं वीजा मुक्त कूटनीतिक यात्रा पर समझौता को सहमति दी। 

प्रेस सम्मेलन के दौरान अपने बहस को जारी रखते हुए परमधर्मपीठ तथा रूसी संघ ने एक समझौता पर हस्ताक्षर किया जिसके तहत राजनयिक पासपोर्ट धारकों को वीजा की आवश्यकता से मुक्त रखा जाएगा।

कार्डिनल पारोलिन और विदेश मंत्री लावरोव ने इसे द्विपक्षीय संबंधों और अंतर्राष्ट्रीय चिंता के मुद्दों पर एक साथ काम करना जारी रखने के लिए दोनों देशों की इच्छा का संकेत कहा। कार्डिनल परोलिन ने बतलाया कि उन्होंने अपने समकक्ष के साथ रूस में काथलिक कलीसिया के जीवन तथा गतिविधियों पर प्रश्न किया। 

उन्होंने कहा कि वाटिकन एवं रूस के बीच कठिनाइयाँ इस बात में है कि वाटिकन गैर रूसी कर्मचारियों के लिए श्रमजीवी निवास स्थान परमिट करने तथा देश के काथलिकों की आध्यात्मिक देखभाल हेतु आवश्यक कई गिरजाघरों की पुनर्स्थापना करना चाहता है।

रूसी विदेश मंत्री लावरोव ने मध्य पूर्व में रहने वाले ईसाइयों के लिए समाधान की आवश्यकता व्यक्त की। उन्होंने कहा, ″हमें समानांतर समाधान ढूँढ़ने की आवश्यकता है जो हमें यमन, लीबिया तथा ईराक के विभिन्न धार्मिक और सांस्कृतिक दलों के साथ उचित संतुलन प्रदान कर सके।″

कार्डिनल पारोलिन ने कहा कि उन्होंने इन मुद्दों पर रूस और परमधर्मपीठ के बीच के दृष्टिकोण में अंतर को मान्यता दी किन्तु कहा कि दोनों पक्षों ने मध्यपूर्व और अफ्रीकी महाद्वीप के कई देशों के ख्रीस्तीयों की स्थिति पर गहन चिंता जतायी।

उन्होंने कहा कि परमधर्मपीठ लगातार इस बात की चिंता करती है कि सभी देशों एवं सभी राजनीतिक परिस्थितियों में धार्मिक स्वतंत्रता की रक्षा हो। 

वेनेजुएला की स्थिति के बारे जवाब देते हुए कार्डिनल परोलिन ने कहा कि वे विश्वास करते हैं कि रूस इस कठिन परिस्थिति से निकलने में मदद देगा। बेनेजुएला की सरकार एवं विपक्ष दल के बीच वार्ता उत्पन्न करने में वाटिकन के प्रयास को भी रूस प्रोत्साहन देगा क्यों परमधर्मपीठ के अनुसार  समस्या से बाहर आने हेतु यही एक मात्र उपाय के रूप में देखाई पड़ रहा।


(Usha Tirkey)

23/08/2017 15:42