Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

विश्व की घटनायें \ विश्व

यमन बर्बादी का अखाड़ा

यमन संघर्ष में अपाहिज हुए लोग - EPA

05/08/2017 16:33

सना, शनिवार 5 अगस्त 2017 (यू एन समाचार) : गम्भीर अकाल और दुनिया के सबसे भीषण हैज़ा संकट का सामना कर रहे यमन की मदद के वास्ते प्रयास दो गुना करने के लिए तमाम अन्तरराष्ट्रीय समुदाय का आहवान किया गया है।

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के यमन संगठन के मुखिया आउके लूट्समा ने राजधानी सना से वीडियो के ज़रिए न्यूयॉर्क में पत्रकारों से बातचीत करते हुए यमन के हालात बयान करते हुए कहा कि यमन में क़रीब दो करोड़ लोगों को मानवीय सहायता की सख़्त ज़रूरत है। यमन का ये संकट इस समय दुनिया का सबसे बड़ा खाद्य सुरक्षा संकट बन गया है। इसके अलावा यमन में क़रीब चार लाख लोग हैज़ा की चपेट में आ चुके हैं। जबकि करीब एक साल से स्वास्थ्यकर्मियों और सरकारी अफसरों को वेतन का भुगतान नहीं किया गया है। तीन साल से जारी हिंसक युद्ध ने हालात को और खराब बना दिया है।

उन्होंने यमन में युद्धरत तमाम पक्षों से भी शान्ति की तरफ जाने का आहवान किया। साथ ही जरूरतमन्द लोगों तक मानवीय सहायता सामग्री पहुँचाने की इजाजत भी देने की अपील की। उन्होंने कहा कि यमन में तकलीफ में पड़े लोगों की मदद के लिए करीब दो अरब 10 करोड़ डॉलर की रकम की जरूरत है मगर उसमें से अभी सिर्फ आधी रकम ही मिल पाई है।गम्भीर अकाल और दुनिया के सबसे भीषण हैज़ा संकट का सामना कर रहे यमन की मदद के वास्ते प्रयास दो गुना करने के लिए तमाम अन्तरराष्ट्रीय समुदाय का आहवान किया गया है। 


(Margaret Sumita Minj)

05/08/2017 16:33