Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ भारत की कलीसिया

बैंगलोर के लोगों ने नेपाल में भूकंप क्षतिग्रस्त स्कूल को फिर से बनाने में मदद की

अप्रैल 2015 में हुए भूकंप - AFP

02/08/2017 15:38

बैंगलोर, बुधवार 2 अगस्त 2017 (उकान) : नेपाल में अप्रैल 2015 में हुए भूकंप से क्षतिग्रस्त स्कूल को फिर से बैंगलोर वासियों ने नया बनाकर दिया।

समाज सेवी फादर जोर्ज कन्नाथानम के नेतृत्व में नये स्कूल के लिए फंड जमा किये गये। इसके लिए अनेक गैर सरकारी संस्थाएं, फंडिंग एजेंसीस, और कुछ उदार लोगों ने अपना सहयोग दिया था।

स्कूल परिसर में एक समारोह के दौरान 21 जुलाई को चार नए कक्षा के कमरों का उद्घाटन किया गया।

नामबुद्धा नगरपालिका के महापौर टी.पी. शर्मा और फादर कन्नाथानम ने स्कूल का उद्घाटन किया। उनके साथ फादर अंतोनी सेबास्टियन और जोस भी उपस्थित थे।

नेपाल की राजधानी काठमांडू से 50 किलो मीटर दूर कावरे जिला के मदूरापति गाँव में जल कल्याण विद्यालय है। यह माध्यमिक और उच्च विद्यालय है जिसमें पड़ोस से 300 छात्र विद्यार्जन करते हैं। भूकंप में स्कूल भवन पूरी तरह से ध्वस्त हो गया था और विद्यार्थी अस्थायी क्लास रुम में अध्ययन कर रहे थे।

चार क्लास रुम को बनाने में सात लाख नेपाली रुपये खर्च हुए। स्पेन के क्लारिशियन मिशन सोसाइटी प्रोक्लेड ने स्कूल भवन निर्माण के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की। परियोजना को काठमांडू के ‘नेपाल वाच्छ’ संगठन, स्कूल प्रबंधन और शिक्षकों ने मिलकर कार्यान्वित किया।

‘बैंगलोर को नेपाल की परवाह’ नामक  संगठन ने करीब 1000 छात्रों को फिर से स्कूल जाने में मदद की। उनकी आवश्कताओं की वस्तुएँ जैसे कॉपी, किताब, बैग वगैरह दी। पिछले साल जल कल्याण विद्यालय में एक पुस्तकालय और प्रयोगशाला बनाए थे। 15 छात्रों के दो बैचों को होटल प्रबंधन प्रशिक्षण के लिए  इसीएछओ बैंगलोर में ले जाया गया है।


(Margaret Sumita Minj)

02/08/2017 15:38