Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ एशिया की कलीसिया

कार्ड. रंजीत ने डेंगू बुखार से निपटने हेतु उपवास प्रार्थना का आहवान किया

प्रार्थना करते हुए श्रीलंका के ख्रीस्तीय - AFP

15/07/2017 16:37

कोलम्बो, शनिवार 15 जुलाई 2017 (वी रेडियो) : कोलम्बो के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल मालकम रंजीत ने सभी ख्रीस्तीयों से डेंगू बुखार से निपटने हेतु ईश्वर की कृपा पाने के लिए एक सप्ताह का उपवास-प्रार्थना करने का आहवान किया। घातक मच्छरों से फैलाए जाने वाले डेंगू बुखार ने इस वर्ष करीब 230 लोगों की जानें ले ली है।

रविवार 15 से 23 जुलाई तक एक सप्ताह के उपवास-प्रार्थना का आयोजन किया गया है। कार्डिनल मालकम रंजीत ने कहा, ″हम सब माता मरियम और सभी संतों का मध्यस्ता से इस घातक बीमारी से निजात पाने हेतु प्रार्थना करें।  हम अपने पापों के प्रायश्चित हेतु उपवास प्रार्थना करें जिससे कि ईश्वर हम पर और हमारे देश पर दया करे और इस भयानक विपत्ति से हमें उबारे तथा अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करे।″

डेंगू बुखार मच्छर से उत्पन्न संक्रामक रोग है। श्रीलंका स्वास्थ्य मंत्रालय के रिपोर्ट अनुसार 2017 में करीब  87,600 से अधिक संक्रमित मामलों की सूचना मिली है। डेंगू बुखार श्रीलंका में सामान्यतः हर साल होता है, लेकिन इस वर्ष संक्रमण की संख्या 2016 से पहले ही 38% अधिक है।

कार्ड. रंजीत जो श्रीलंका काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष भी हैं, ने काथलिकों से प्लेग के खिलाफ रक्षक संत सेबास्टीन के पास नोबीना प्रार्थना करने की अपील की। उन्होने कहा, "मैं इस सप्ताह के दौरान पवित्र यूखरिस्त समारोह में विशेष प्रार्थना की अर्ज करता हूँ। सभी पल्लियों में 21 से 23 जुलाई शुक्रवार शनिवार और रविवार को तीन दिवसीय प्रार्थना हो और अंतिम में माता मरियम, संत सेबास्टीन और अन्य संतों को साथ जुलूस करके बीमारी के निदान के लिए प्रार्थना करें।"

कार्डिनल रंजीत ने काथलिकों को जरुरत मंदो की मदद करने और उदारता के कार्यों को करने के लिए प्रेरित किया। लोगों को हरसंभव मच्छर प्रजनन दलदल स्थानों और मैदानों तथा  परिवेश की साफ-सफाई का अभियान चलाने का आग्रह किया।  

श्रीलंका सरकार भी इस बीमारी से मुक्ति पाने के प्रयास में लगी हुई है। श्रीलंका के राष्ट्रपति मैथ्रिपाला सिरीसेना ने लोगों से इस रोग की रोकथाम करने वाले अधिकारियों के साथ सहयोग देने की अपील की है। सिर्फ कोलोम्बो शहर में सैनिकों का 25 दल, पुलिस अधिकारियों और सार्वजनिक स्वास्थ्य निरीक्षकों को डेंगू मच्छर-प्रजनन स्थलों की तलाश और उनकी सफाई में तैनात किया गया था। उन्होंने घर घर जाकर लोगों को नाले साफ रखने और घर के बाहर वर्षा के पानी से भरे बर्तनों को खाली करने की सलाह दी। सरकार ने कुल मिलाकर 400 सैनिकों और पुलिस अधिकारियों को कचरा, स्थिर पानी के तलाब और अन्य संभावित मच्छर-प्रजनन मैदानों को साफ करने के लिए तैनात किया है।


(Margaret Sumita Minj)

15/07/2017 16:37