Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

संत पापा फ्राँसिस \ अंजेलुस व संदेश

माल्टा में मोज़ाइक उद्घाटन के अवसर पर संत पापा का वीडियो संदेश

‘ता पीनू’ की कुंवारी मरियम तीर्थालय के मोज़ाइक उद्घाटन के अवसर पर वीडियो संदेश देने हुए संत पापा फ्राँसिस - RV

19/06/2017 15:25

वाटिकन सिटी, सोमवार, 19 जून 2017 (रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने माल्टा स्थित गोज़ो धर्मप्रांत के धर्माध्यक्ष मारियो ग्रेक को ‘ता पीनू’ की कुंवारी मरियम तीर्थालय के मोज़ाइक उद्घाटन के अवसर पर वीडियो संदेश प्रेषित किया।  अलेत्ती केंन्द्र द्वारा तैयार की गई बालक येसु के साथा माता मरियम, संत योहन बपतिस्ता और संत पौलुस की छवियों की मोज़ायिक को तीर्थालय के मध्य भाग में स्थापित किया गया।

संत पापा ने ‘ता पीनू’ की कुंवारी मरियम तीर्थालय के मोज़ाइक उद्घाटन के लिए एकत्रित तीर्थयात्रियों को संबोधित कर कहा,″आज जिन मोज़ाइकों का उद्घाटन किया गया है, इनकी सुन्दरता अनायास ही हमारी आँखों को अपनी ओर खींच लेती है और छोटे बड़े सभी को मनन चिंतन और रोजरी प्रार्थना करने में मदद करती है। 

संत पापा ने कहा,″मैं भी बहुधा बालक येसु के साथ माता मरियम की मोज़ायिक के सामने रोजरी प्रार्थना करता हूँ। मोज़ाइक में माता मरियम बीच में है और उनके हाथ येसु के लिए एक सीढ़ी बन जाती है जिससे नीचे उतरकर वे हमारे पास आ सके। येसु ने अपने आप को इतना छोटा बना दिया ताकि वो हम मनुष्यों के साथ चल सके और हमें अपने साथ स्वर्ग ले सके।″

रोजरी प्रार्थना में हम माता मरियम के सम्मुख आते हैं वो हमें अपने बेटे के करीब ले जाती है जिससे हम उन्हें ज्यादा से ज्यादा जानें और प्रेम कर सकें। ‘प्रणाम मरियम’ प्रार्थना को दुहराते समय हम येसु के जीवन के आनंद, ज्योति, दुःख और महिमा के रहस्यों पर मनन चिंतन करते हुए अपने जीवन पर भी मनन करते हैं क्योंकि हम येसु के साथ-साथ चलते हैं।

यह साधारण प्रार्थना है, वास्तव में यह हमें ईश्वर के मुक्तिदायी प्रेम को समझने और अनुभव करने तथा येसु के साथ संयुक्त बने रहने में मदद करती है। प्रार्थना में हम पिता ईश्वर को अपनी खुशी, परिश्रम, थकान, डर भय, अपने लोगों को या कहें अपना सबकुछ चढ़ाते हैं, जिससे कि ईश्वर हमारे जीवन को स्वीकार करे और अपनी इच्छानुसार हममें परिवर्तन लाये। रोजरी माला की प्रार्थना एक शक्तिशाली प्रार्थना है क्योंकि यह हमारे दिलों में, हमारे घर-परिवारों, हमारी पल्लियों और दुनिया में शांति लाती है।

अंत में संत पापा ने सभी तीर्थयात्रियों को माता मरियम के संरक्षण में रखते हुए उन्हें अपना आशीर्वाद दिया।


(Margaret Sumita Minj)

19/06/2017 15:25