Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ भारत की कलीसिया

महाधर्माध्यक्ष कुरियाकोस कुन्नास्सेरी का निधन

केरल स्थित कोट्टेयाम के प्रथम सिरो मलाबार महाधर्माध्यक्ष एवं नैन्या काथलिकों के आध्यात्मिक गुरु कुरियाकोस कुन्नास्सेरी - RV

15/06/2017 16:24

केरल, बृहस्पतिवार, 15 जून 17 (मैटर्स इंडिया): केरल स्थित कोट्टेयाम के प्रथम सिरो मलाबार महाधर्माध्यक्ष एवं नैन्या काथलिकों के आध्यात्मिक गुरु कुरियाकोस कुन्नास्सेरी का निधन 14 जून को 88 साल की उम्र में हुआ। उनका इलाज कोट्टेयाम के एक निजी अस्पताल में चल रहा था।  

महाधर्माध्यक्ष के पार्थिव शरीर को 16 जून तक लोगों के दर्शन हेतु ख्रीस्तोराजा महागिरजाघर में रखा गया है। उनका अंतिम संस्कार 17 जून को अपराह्न 2 बजे उसी महागिरजाघर में सम्पन्न होगा।

महाधर्माध्यक्ष कुन्नास्सेरी का जन्म 11 सितम्बर 1928 को कोट्टेयाम जिला के काडूथूरूथेई में हुआ था। प्राथमिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद उन्होंने एलूवा के मानगालापुजहा सेमिनरी में प्रवेश किया। पुरोहिताई की पढ़ाई हेतु वे रोम भेजे गये। उनका पुरोहिताभिषेक 21 दिसम्बर 1955 को हुआ था।

स्वर्गीय महाधर्माध्यक्ष ने परमधर्मपीठीय उर्बनियन एवं परमधर्मपीठीय लातेरन विश्व विद्यालय से डॉक्ट्रेट की उपाधि प्राप्त की थी। उन्होंने राजनीति शास्त्र में अमरीका के बोस्टन कॉलेज से मास्टर की डिग्री भी हासिल की थी।

अध्ययन समाप्त कर उन्होंने रोम में धर्माध्यक्ष थॉमस थालायिल के सचिव के रूप में सेवा दी एवं वे कोट्टेयाम धर्मप्रांत के कुलाधिपति रहे।

9 दिसम्बर 1967 को वे कोट्टायाम के सहायक धर्माध्यक्ष नियुक्त हुए। धर्माध्यक्ष थॉमस थालायिल द्वारा त्याग पत्र दिये जाने पर 5 मई 1974 को कोट्टेयाम के धर्माध्यक्ष का कार्यभार सँभाला तथा 9 मई 2005 को वहाँ के महाधर्माध्यक्ष बनें। वे 14 जनवरी 2006 को सेवानिवृत हुए थे।


(Usha Tirkey)

15/06/2017 16:24