Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

कलीसिया \ भारत की कलीसिया

करीतास इंडिया: आपदाओं में मदद करने के लिए धार्मिक संगठनों का नेटवर्क

विभिन्न धर्मों के नेतागण - AFP

29/05/2017 16:23

नई दिल्ली, सोमवार, 29 मई 2017 (एशिया न्यूज) : कारितास इंडिया ने मानव-निर्मित और प्राकृतिक आपदाओं की स्थिति में तत्काल प्रतिक्रिया देने के लिए अन्य धार्मिक संगठनों को शामिल होने की अपील है। काथलिक कलीसिया के समाज विभाग ने 16 मई को हिंदू, बौद्ध, मुस्लिम और सिख और अन्य धर्मों के प्रतिनिधियों के साथ एक बैठक का आयोजन किया। बैठक में, प्रतिनिधियों ने के नेटवर्क के प्रस्ताव को लॉन्च किया, जिसमें आपातकाल की स्थिति में एक ठोस तरीके से मदद करने में सक्षम हो सके।

कारितास पब्लिक रिलेशन्स ऑफिस के प्रमुख अमृत संगमा ने एशिया न्यूज़ से कहा,″ सभी धर्मों में बहुत अच्छी अच्छी बातें हैं। हमारा संयुक्त प्रयास है कि हम दुःख और विपत्ति के समय में लोगों की उदारता पूर्वक मदद कर सकें। और इस तरह से कारितास हर किसी की प्रार्थनाओं का उत्तर हो सकता है।"

काथलिक नेटवर्क संगठनों के अनुसार "मतभेदों के होते हुए भी सभी धर्मों द्वारा स्वीकृत प्रेम और न्याय के सामान्य मूल्यों का एहसास कराते हुए लोगों को जीवन बिताने हेतु प्रेरित करना चाहिए। विभिन्न धर्मों का देश होने के नाते  भारत को ऐसे मंच से बहुत से लाभ मिल सकता है।"

भारतीय उपमहाद्वीप में विशेष रूप से प्राकृतिक आपदायें होती रहती हैं। इन वर्षों के दौरान  कारितास इंडिया ने आपदा जोखिम को कम करने (डीआरआर) तथा बचाव और पुनर्वास के विकास के लिए (एलआरआरडी) अपनी विशेषज्ञता बढ़ा दी है। मानवतावादी संगठनों ने देश और विदेश में, बाढ़, सूनामी, हिमस्खलन, जातीय संघर्ष और चक्रवातों में फंसे लगभग 10 लाख लोगों की मदद की है। अमृत संगमा ने संयुक्त प्रयास का उद्देश्य बताते हुए कहा कि आपदाओं से नुकसान को कम करने, जान बचाने, मृतकों की संख्या कम करने और समुदाय की आजीविका की रक्षा करना है।


(Margaret Sumita Minj)

29/05/2017 16:23