Social:

RSS:

App:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

संत पापा फ्राँसिस \ मुलाक़ात

संत पापा ने रूवांडा के राष्ट्रपति से मुलाकात की

संत पापा एवं रूवांडा के राष्ट्रपति - AFP

20/03/2017 16:51

वाटिकन सिटी, सोमवार, 201 मार्च 2017 (वीआर सेदोक): संत पापा फ्राँसिस ने सोमवार 20 मार्च को वाटिकन के प्रेरितिक प्रासाद में रूवांडा के राष्ट्रपति पौल कागामे से मुलाकात की, जिन्होंने क्रमशः वाटिकन राज्य सचिव कार्डिनल पीयेत्रो परोलिन एवं वाटिकन विदेश सचिव पौल रिचर्ड गल्लाघेर से भी मुलाकातें की।

वाटिकन प्रेस वक्तव्य में कहा गया कि संत पापा एवं रूवांडा के राष्ट्रपति के बीच सौहार्दपूर्ण मुलाकात में, परमधर्मपीठ एवं रूवांडा के बीच संबंध के सकारात्मक पक्षों पर गौर किया गया।

वक्तव्य में यह भी बतलाया गया कि देश की सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक स्थिरीकरण के मद्देनजर महत्वपूर्ण कदम के लिए प्रशंसा व्यक्त की गई। साथ ही साथ, मेल-मिलाप तथा समस्त राष्ट्र के हित शांति के समझौते पर राज्य एवं स्थानीय कलीसिया के बीच सहयोग पर भी प्रकाश डाला गया। इस संदर्भ में, संत पापा ने कलीसिया की ओर से तुतसी में नरसंहार के खिलाफ गहन शोक व्यक्त किया। उन्होंने नरसंहार के शिकार लोगों के प्रति एकात्मता व्यक्त की तथा जो लोग आज भी इसके दुष्प्रभाव झेल रहे हैं उनके प्रति कलीसिया की कमजोरी को स्वीकार करते हुए, पापों के लिए ईश्वर से क्षमा की याचना की। उन्होंने कहा, दुर्भाग्य से, पुरोहितों एवं धर्मसमाजियों ने सुसमाचार प्रचार के अपने मिशन को धोखा देकर घृणा एवं हिंसा को बढ़ावा दिया था।

प्रेस वक्तव्य के अनुसार संत पापा ने समकालीन कलीसिया के अपराध को स्वीकार किया जिसने कलीसिया के चेहरे को विरूपित किया है। उन्होंने इस दुखद याद को शुद्ध किये जाने की इच्छा व्यक्त की तथा आशा, नवीकृत निष्ठा तथा भावी शांति की कामना की, जहाँ ठोस साक्ष्य देते हुए पुनः एक साथ जीवन व्यतीत किया जा सके और मानव प्रतिष्ठा एवं सार्वजनिक हित को केंद्र में रखा जा सके। 

अंततः संत पापा एवं रूवांडा के राष्ट्रपति ने राजनीतिक, सामाजिक तथा स्थानीय परिस्थितियों पर चर्चा की, विशेषकर, उन स्थानों पर एक-दूसरे का ध्यान आकृष्ट किया, जहाँ संघर्ष एवं प्राकृतिक आपदा के कारण दुःखद परिस्थिति है। उन्होंने शरणार्थियों एवं अप्रवासियों पर भी विचार किया जिन्हें मदद एवं समर्थन दिये जाने की आवश्यकता है। 


(Usha Tirkey)

20/03/2017 16:51