Social:

RSS:

रेडियो वाटिकन

विश्व के साथ संवाद करती संत पापा एवं कलीसिया की आवाज़

अन्य भाषाओं:

संत पापा फ्राँसिस \ मिस्सा व प्रवचन

संत जोसेफ महान एवं सुन्दर चीजों का स्वप्न देखने हेतु प्रेरणा

संत मर्था में ख्रीस्तयाग अ्र्पित करते संत पापा

20/03/2017 16:05

वाटिकन सिटी, सोमवार, 20 मार्च 2017 (वीआर सेदोक): संत जोसेफ युवाओं को ″स्वप्न देखने, जोखिम उठाने तथा स्वप्न में प्राप्त कठिन काम को पूरा करने की प्रेरणा प्रदान करते हैं।″ यह बात संत पापा फ्राँसिस ने वाटिकन स्थित प्रेरितिक आवास संत मर्था के प्रार्थनालय में संत जोसेफ के महापर्व के अवसर पर ख्रीस्तयाग के दौरान कही।

प्रवचन में संत पापा ने येसु के पालक पिता संत जोसेफ पर प्रकाश डाला जिनका पर्व 19 मार्च को मनाया जाता है किन्तु रविवार होने के कारण इसे सोमवार को मनाया गया।

संत पापा ने कहा, ″जोसेफ ने दूत के आदेश का पालन किया जो उन्हें स्वप्न में दिखाई देकर पवित्र आत्मा से गर्भवती मरियम को अपने यहाँ लाने के लिए कहा था। वे एक शांत एवं आज्ञाकारी व्यक्ति थे। जोसेफ वह व्यक्ति था जिन्होंने वंश, विरासत, पितृत्व, दायित्व, स्थिरता आदि की प्रतिज्ञा को अपने कंधे पर उठाया।

संत पापा ने कहा कि उन्होंने इस बड़ी जिम्मेदारी को लेना स्वीकार किया जो इस समय के अनाथ पन के बारे बहुत कुछ सोचने हेतु प्रेरित करता है। उन्होंने ईश्वर की प्रतिज्ञा को पूरा करने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया और उसे धैर्य के साथ इसलिए वहन किया क्योंकि वे ईश्वर की इच्छा पूरी करना चाहते थे।

संत जोसेफ की दूसरी विशेषता के बारे बतलाते हुए संत पापा ने कहा कि यद्यपि वे हमें बहुत कुछ बतला सकते हैं किन्तु नहीं बोलते। वे छिपे हुए एवं शांत प्रकृति के व्यक्ति हैं। संत पापा ने इस बात पर बल दिया कि ईश्वर ने संत जोसेफ को कमजोर लोगों की रक्षा का भार सौंपने हेतु योग्य पाया। बालक का जन्म एवं मिश्र में पलायन अत्यन्त नाजुक परिस्थितियाँ थीं किन्तु जोसेफ ने बड़े ही कोमलता से अपनी सभी ज़िम्मेदारियों को पूरा किया।     

संत पापा ने कहा कि मैं उन लोगों पर चिंतन करना चाहता हूँ जो कमजोर लोगों की देखभाल करते हैं। उन्होंने कहा कि संत जोसेफ दुर्बलों के संरक्षक है ताकि वे विश्वास में दृढ़ हो सकें। उन्होंने इस जिम्मेदारी को स्वप्न में पाया था वे स्वप्न देख पाने योग्य व्यक्ति थे अतः ईश्वर का ख्वाब देखने वालों के संरक्षक हैं, हम सभी की मुक्ति हेतु ईश्वर के ख्वाब का। मानव मुक्ति का रहस्य उनके साथ जुड़ा है।

संत पापा ने संत जोसेफ की मध्यस्थता द्वारा ईश्वर से प्रार्थना कि वे हमें स्वप्न देखने की कृपा प्रदान करें क्योंकि जब हम अच्छी चीजों का ख्वाब देखते हैं हम हमारे प्रति ईश्वर की योजना में शामिल होते हैं। 


(Usha Tirkey)

20/03/2017 16:05